Friday , February 23 2018

चाणक्य नीति

जैसे मछली दृष्टी से, कछुआ ध्यान देकर और पंछी स्पर्श करके अपने बच्चो को पालते है, वैसे ही संतजनों की संगती मनुष्य का पालन पोषण करती है।

चाणक्य नीति

=>
LIVE TV