खुशखबरी: पढ़ाई के लिए अब नहीं होगी विदेश जाने की जरूरत

NITI-Aayog_55bcc1ef023c5एजेंसी/नई दिल्ली : यदि सबकुछ ठीक रहा तो अब विदेशी विश्वविद्यालयों से अध्ययन करने के लिए विद्यार्थियों को विदेश जाने की जरूरत नहीं होगी। भारत में ही फाॅरेन यूनिवर्सिटीज़ अपने परिसरों की स्थापना करेगी। नीति आयोग ने प्रधानमंत्री कार्यालय और मानव संसाधन मंत्रालय को अपनी एक रिपोर्ट सौंपी इस दौरान रिपोर्ट में विदेशी विश्वविद्यालयों को भारत में अपने परिसर खोलने का सुझाव भी नीति आयोग ने दिया।

दरअसल यूपीए के कार्यकाल में ही इस तरह का प्रस्ताव तैयार किया गया था। मिली जानकारी के अनुसार विदेशी विश्वविद्यालयों को भारत में अपने परिसर खोले जाने की अनुमति देने से देश में उच्च शिक्षा की बढ़ती मांग, बढ़ती प्रतियोगिता की चुनौतियों से निपटने और उच्च शिक्षा में गुणवत्ता बढ़ाने में मदद मिलने की बात कही गई। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने विदेशी विश्वविद्यालय के परिसर से जुड़ी रिपोर्ट का अध्ययन करने हेतु नीति आयोग से चर्चा की।

इस मामले में विशेषतौर पर प्रधानमंत्री ने अनुशंसा की थी और कहा था कि इस मसले पर क्या परेशानियां आ रही हैं उस पर ध्यान दें। दरअसल नई शिक्षा नीति को लेकर भी कई तरह के विचार किए गए। नई शिक्षा नीति का खुलास इस वर्ष किए जाने की बात भी मंत्रालय स्तर पर कही गई है। उल्लेखनीय है कि वर्ष 1995 में पहली बार विधेयक लाया गया जिसे आगे नहीं बढ़ाया जा सका। मगर अब फिर से विदेशी विश्वविद्यालयों के परिसरों को भारत लाने का प्रयास किया जा रहा है। इससे देश की शिक्षा गुणवत्ता में सुधार की उम्मीद जताई जा रही है। 

=>
LIVE TV