कन्हैया ने की मोदी और संघ की जमकर बुराई

kanhaiya-kumar_571084af94fc0एजेंसी/नागपुर : नए-नए राजनीति के गुर सीख रहे जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने डॉ अंबेडकर की 125वीं जयंती पर बोलते हुए राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ को निशाना बनाया। गुरुवार को नागपुर में कन्हैया ने अपने संबोधन में कहा कि नागपुर अंबेडकर की धरती है, आरएसएस की नहीं और न ही संघ संसद है।

कन्हैया ने नागपुर में बाबा साहेब को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद जब कन्हैया ने भाषण शुरु किया, तो एबीवीपी के कार्यकर्ताओं ने उन पर चप्पल फेंकी लेकिन वो उन्हें लगी नहीँ। अपने भाषण में उन्होंने राजग सरकार पर देश में लोकतांत्रिक ढांचे पर हमला करने का आरोप लगाया और कहा कि अंबेडकर द्वारा लिखित संविधान पर सीधा हमला हो रहा है।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार ने कुछ चुनावी वादे किए थे लेकिन वह अब तेजी से उन्हें भूल रही है और उससे पीछे हट रही है। उन्होंने आरएसएस पर निशाना साधते हुए कहा कि यह बाबासाहेब अंबेडकर की धरती कहा जाता है, न कि संघ भूमि। बता दें कि नागपुर में आरएसएस का मुख्यालय है।

कन्हैया मोदी सरकार को कहा कि वो जेएनयू जैसे शैक्षणिक संस्थान की विश्वसनीयता को भंग करने पर तुले है। छात्रों को उस गुनाह के लिए प्रताड़ित किया जाता है, जो उन्होने किया ही नहीं। भाषण के बाद संवाददाताओं से बात करते हुए कन्हैया ने कहा कि मोदी सरकार ने मुझे राजद्रोह के आरोप में फंसाकर बड़ी गलती की।

मीडिया का इस्तेमाल कर मुझे जेल में डाल दिया गया। उन्होंने कहा कि रवैया बदलने की आवश्यकता है, न कि ड्रेस। कन्हैया ने आरोप लगाया कि एफटीआईआई, हैदराबाद केंद्रीय विश्वविद्यालय, जेएनयू और एनआईटी श्रीनगर जैसी स्वायत्त संस्थाओं को छात्रों में अशांति पैदा करने के लिए निशाना बनाया जा रहा है।

इससे पहले, बजरंग दल के कुछ कार्यकताओं ने उस वाहन पर पत्थर फेंके जिसमें हवाई अड्डा पर पहुंचने के बाद बिठाकर कन्हैया को ले जाया जा रहा था। उधर, गुरुवार की शाम को पुलिस को कन्हैया को लिखी धमकी भरी चिठ्ठी मिली, जिसके बाद से कन्हैया और उमर खालिद की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

उसमें लिखा गया है कि कन्हैया और उमर खालिद का सिर कलम करने वाले को ईनाम दिया जाएगा। गुरुवार शाम 6 बजे दिल्ली पुलिस को एक फोन आया, जिसमें फोन करने वाले ने कहा जेएनयू के पास चलने वाली 605 नंबर की बस में हथियार है। बस इंडिया गेट के पास से गुजर रही है।

बस में पिस्तौल और जिंदा कारतूस रखे हुए है। इसके बाद जब पुलिस ने जांच की तो वहां पिस्तौल और कारतूस के अलावा एक धमकी भरा खत भी मिला। चिठ्ठी पर अनिल जानी का नाम लिखा हुआ था। इसके बाद तिलक मार्ग थाने पर आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया। साथ जेएनयू प्रशासन को भी सूचित कर दिया गया है।

=>
LIVE TV