कन्हैया ने किया दंडात्मक कार्रवाई का विरोध

kanhaiya-kumar_571c684336288एजेंसी/ नई दिल्ली : जवाहरलाल नेहरू छात्र संगठन के अध्यक्ष कन्हैया कुमार ने विद्यार्थियों पर दंडात्मक कार्रवाई को निष्प्रभावी करने की मांग की। इस दौरान वे अन्य नेताओं के साथ धरने पर बैठ गए। उन्होंने अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल प्रारंभ कर दी। मिली जानकारी के अनुसार 9 फरवरी की विवादास्पद घटना को लेकर जेएनयू द्वारा कुछ विद्यार्थियों पर दंडात्मक कार्रवाई की गई थी, जिसके बाद कन्हैया कुमार ने भूख हड़ताल प्रारंभ कर दी।

कन्हैया कुमार ने उमर खालिद, अनिर्बान भट्टाचार्य और विश्वविद्यालय के अन्य विद्यार्थियों के साथ हड़ताल में भागीदारी प्रारंभ कर दी। जेएनयू की जांच कमेटी ने इस मामले में मामले में 21 छात्रों को दोषी पाया है।

उल्लेखनीय है कि अफजल गुरू की बरसी मनाने और इस कार्यक्रम में देश विरोधी नारे लगाने को लेकर जेएनयू छात्र संघ के अध्यक्ष कन्हैया कुमार, अनिर्बान भट्टाचार्य और उमर खालिद के खिलाफ कार्रवाई की गई लेकिन बाद में उन्हें जमानत पर छोड़ दिया गया। इस मसले पर जांच कमेटी ने 21 विद्यार्थियों को दोषी बताया और इन पर कार्रवाई की बात की गई।

=>
LIVE TV