कन्नौज से ट्रिपल सी की परीक्षा देने शहर आई छात्रा ने बैराज पुल से गंगा नदी में लगाई छलांग, पढ़े पूरी खबर

कन्नौज से ट्रिपल सी की परीक्षा देने शहर आई छात्रा ने बैराज पुल से गंगा नदी में छलांग लगा दी। पुलिस ने गोताखोरों की मदद से दो घंटे बाद शव की तलाश कराई और शिनाख्त के बाद घरवालों को सूचना दी। उसकी मौत की जानकारी पर कन्नौज और शहर में रहने वाले रिश्तेदार मौके पर पहुंच गए।

पुलिस के मुताबिक कन्नौज के सौरिख थानाअंतर्गत नादेमऊ गांव निवासी पुरोहित राघवेंद्र द्विवेदी की 20 वर्षीय बड़ी बेटी अंजली दुबे बीए की छात्रा थी। पांच नवंबर को वह परीक्षा देने के लिए रामादेवी निवासी मौसा राजेश तिवारी के घर आई थी। शुक्रवार को उसने हाथीपुर स्थित केंद्र पर परीक्षा दी थी और फिर मौसा के घर आ गई थी। राजेश ने रविवार को उसे रावतपुर से कन्नौज की बस में बिठा दिया था। कन्नौज न जाकर अंजली रास्ते में ही बस से उतर गई और अॉटो करके गंगा बैराज पहुंच गई।

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार युवती काफी देर बैराज की रेलिंग के सहारे खड़े होकर गंगा की तरफ देखती रही। फिर उसने जमीन पर अपना बैग और मोबाइल फोन रख दिया और देखते ही देखते उसने गेट नंबर पांच के सामने से नदी में छलांग लगा दी। उसे देखते लोगों ने चीख पुकार मचाना शुरू कर दिया और पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने आसपास के आधा दर्जन गोताखोरों को नदी में उतारा और करीब दो घंटे मशक्कत के बाद अंजली का शव बरामद हुआ। शिनाख्त के बाद घरवालों और रिश्तेदारों को सूचना देकर बुलाया।

नवाबगंज थाना प्रभारी रमाकांत पचौरी ने बताया कि युवती किसी बात को लेकर अवसाद में थी। शायद वह अपने घर वापस नहीं जाना चाहती थी और इसी वजह से उसने आत्महत्या कर ली। उसके बैग से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है। रिश्तेदारों ने बताया है कि अंजली के पिता पुरोहित हैं। परिवार में मां, तीन भाई और एक छोटी बहन है। उनके आने के बाद आत्महत्या के कारणों का पता लगने की उम्मीद है।

=>
LIVE TV