Thursday , October 19 2017

ऐतिहासिक खजानों से भरा है इन गुप्त विरासतों का इतिहास

ऐतिहासिक जगहेंसभी लोगों को ऐतिहासिक जगहें देखने और घूमने का बड़ा शौक होता है जैसे आपने कभी किसी पुराने   मंदिर या जगह के बारे में सुना तो मन में इच्छा होती है कि हम उस मंदिर या जगहें को करीब से देखें और उससे जुड़े तथ्यों के बारे में जानें. अगर आपको भी इतिहास से है प्यार तो इन बताई हुई जगहों पर घूमना न भूलें. जब आप इन ऐतिहासिक स्थलों पर घूमने जाएंगे तो इनका इतिहास आपको इनके और करीब ले आएगा.

अंकोरावाट मंदिर 

कम्बोडिया में स्थित अंकोरावाट मंदिर की स्थापना 12 वीं शताब्दी में खमेर के राजाने करवाया था. अंकोरावाट मंदिर दुनिया का सबसे बड़ा हिंदू मंदिर है. यह मंदिर भगवान विष्णु का है. यहां का टेम्पल टावर आने वाले सैलानियों को बड़ी ही खूबसूरती के साथ अपनी ओर आकर्षित करता है. यहां हर साल भरी संख्या में सैलानी आते हैं.

पिरामिड

अगर आप ग्‍वैटामाला के एल मेराडोर तक सफर करते हैं तो वहां आपको माया सभ्‍यता से जुड़े पिरामिड मिलेंगे. नॉर्दर्न ग्‍वैटामाला में आपको कई खूबसूरत और रोमांचकारी चीजें देखने का मौका मिलेगा. आप ट्रैकिंग या हेलीकॉप्‍टर के जरिए इस पिरामिड तक पहुंच सकते हैं. इस पिरामिड की ऊंचाई 230 फुट है.  जंगलों के बीच में बना यह पिरामिड माया शहर के आसपास स्थित है जो देखने में बेहद ही खूबसूरत लगता है.

साउथ ईस्टर्न टर्की

साउथ ईस्‍टर्न टर्की जो उर्फा शहर से ज्यादा दूर नहीं है वहां पर दस हजार साल पुराने स्‍टोन को रखा गया है. वहां पर इन्हें गोबेकली टेपे कहा जाता है. यह पत्‍थर पाषाण काल की निशानी हैं. इस मंदिर को एक के ऊपर एक पत्‍थर रखकर बहुत ही शानदार तरीके से बनाया गया था. यह जगह बहुत साल पुरानी है यहां बना मंदिर दुनिया का सबसे पुराना मंदिर है.

हम्पी

हम्पी मध्यकालीन हिंदू राज्य विजयनगर साम्राज्य की राजधानी थी. यह नगर तुंगभद्रा नदी के तट पर स्थित है.  यहां केवल खंडहरों के रूप में ही अवशेष बचें हुए हैं. इन अवशेषों को देखने से प्रतीत होता है कि किसी समय में यहाँ एक समृद्धशाली सभ्यता निवास करती रही होगी. भारत के कर्नाटक राज्य में स्थित यह नगर यूनेस्को द्वारा विश्व के विरासत स्थलों की संख्या में शामिल किया गया है. हर साल यहाँ हजारों की संख्या में सैलानी और तीर्थ यात्री आते हैं.

चाविन डे हुंटार

पेरू में स्थित चाविन डे हुंटार एक आर्कियोलॉजिकल साइट है. यह जगह लीमा से 150 मील की दूरी है. एंडीज पर्वत मालाओं से इसकी की ऊंचाई दस हजार फुट है. ये जगह 400 से 1500 ईसा पूर्व के बीच की है. इस जगह को यूनेस्‍को की वर्ल्‍ड हैरिटेज साइट में शामिल कर लिया गया है. यहां पत्‍थरों को बहुत खूबसूरती के साथ लगाया गया है. यहां का आर्कीटेक्‍चर देखते ही बनता है.

 

=>
LIVE TV