एशिया की सबसे बड़ी धारावी में कोरोना वायरस फैल रहा तेजी से, संक्रमितों की संख्या हुई 5, एक की हो चुकी मौत

नोवल कोरोना वायरस इस वक्त पूरे देश में तेजी से फैल रहा है लेकिन सरकार अपनी कोशिशों में लगी हुई है. इस बीच मुंबई में एशिया की सबसे बड़ी झुग्गी में शनिवार को कोरोना वायरस से संक्रमित दो मरीज मिले हैं. इस क्षेत्र में पॉजिटिव कोरोनो वायरस के मामलों की कुल संख्या 5 हो गई. आपको बता दें कि इससे पहले धारावी में कोरोना पॉजीटिव मरीज की मौत हो चुकी है.

झुग्गी

 

 

मुंबई के धारावी में महिला और पुरुष की कोराना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है. इससे पहले धारावी के शाहू नगर में इलाज के दौरान एक कोरोना मरीज ने दम तोड़ दिया था. इस पर बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) की टीम ने उनके परिवार के आठ से 10 लोगों को क्वारनटीन में रखा है. जहां पर मरीज रहता है उस इमारत को पूरी तरह सील कर दिया गया है.

गौरतलब है कि एशिया की सबसे बड़ी झुग्गी धारावी में कोरोना वायरस की दस्तक खतरे से खाली नहीं है. मुंबई में धारावी 15 लाख लोगों की घनी आबादी वाला क्षेत्र है, जो 613 हेक्टेयर में फैला हुआ है. धारावी में लाखों की संख्या में मजदूर और छोटे कारोबारी रहते हैं. वहीं, महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने शनिवार को कहा कि कोरोना वायरस को रोकने के लिए देशभर में लागू किए बंद को प्रदेश सरकार चरणबद्ध तरीके से हटाने पर विचार कर रही है.

भारत सरकार का बड़ा एलान! आयुष्मान भारत के तहत करोड़ों लोगों की कोरोना की जांच और इलाज होगा मुफ्त

 

इससे पहले उन्होंने कहा था कि प्रदेश के लोग अगर अनुशासन में नहीं रहेंगे और कोविड-19 के मामले बढ़े तो महाराष्ट्र सरकार 14 अप्रैल को बंद नहीं हटाएगी. राष्ट्रव्यापी बंद 14 तारीख को खत्म हो रहा है. टोपे ने बाद में एक सीधे वेब प्रसारण में कहा कि इस बात पर चर्चा चल रही है कि क्या चरणबद्ध तरीके से बंद में छूट दी जा सकती है. इस दौरान कड़े नियमों का पालन किया जाएगा.

मंत्री ने लोगों से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने को भी कहा. उन्होंने कहा कि अच्छा खाइये और घर के अंदर व्यायाम कीजिए. टोपे ने कहा कि आयुर्वेद के कई विशेषज्ञ कोरोना वायरस के इलाज की अनुशंसा करना चाहते हैं. उनके पास वैकल्पिक चिकित्सा से जुड़ी जो भी जानकारी हो उसे आयुष पोर्टल पर देना चाहिए.

 

टोपे ने कहा कि लोगों को सख्ती से अनुशासन बनाए रखना चाहिए, लेकिन अगर वे ऐसा नहीं करते हैं (अनावश्यक रूप से घरों से बाहर आते हैं) और मरीजों की संख्या बढ़ती है तब कोई और विकल्प नहीं बचेगा और बंद को बढ़ाना होगा. उन्होंने हालांकि कहा कि बंद जब भी हटाया जाएगा चरणबद्ध तरीके से हटाया जाएगा, जिससे सभी लोगों को एक साथ सड़क पर आने की इजाजत नहीं मिले.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोनो वायरस के प्रसार को रोकने के लिये 24 मार्च को देश भर में 21 दिन के राष्ट्रव्यापी बंद की घोषणा की थी. उन्होंने कहा, इसलिए, लोगों को अनुशासन बरतना चाहिए. अगर वे ऐसा करते हैं तो मरीजों की संख्या घटेगी तथा तब हम हटा सकते हैं (बंद को). टोपे ने बताया कि राज्य में शनिवार को कोविड-19 के 47 और मामले सामने आए, जिससे संक्रमित मरीजों की कुल संख्या 537 हो गई. राज्य में इस बीमारी से अब तक छह लोगों की मौत हो चुकी है.

 

=>
LIVE TV