इस गाँव में फरवरी में मनाया जाता है ‘क्रिसमस’, वजह जानकर सहम जाएंगे आप…

पूरी दुनिया में हर साल 25 दिसंबर को ही क्रिसमस का त्यौहार मनाया जाता है लेकिन दुनिया में एक गांव ऐसा है जहां फरवरी के महीने में क्रिसमस मनाया जाता है।

ईसाई धर्म के इस सबसे बड़े त्यौहार को ईसा मसीह के जन्म दिवस के तौर पर मनाया जाता है लेकिन कोलंबिया के एक गांव क्विनामायो के रहने वाले लोगों के अनुसार ईसा मसीह का जन्म 21 फरवरी को हुआ था।

इस गाँव में फरवरी में मनाया जाता है 'क्रिसमस'

बता दें कि ऐसा करने के पीछे का कारण यह कि जब 24 दिसंबर को क्रिसमस मनाया जा रहा था तब इस गांव के लोग गुलामी में जी रहे थे। यही वजह थी कि उन्हें इस दिन क्रिसमस मनाने की इजाजत नहीं थी।

जब यहां के लोग गुलामी से आज़ाद हुए तब उन्होंने 21 फरवरी को क्रिसमस सेलिब्रेट करने का दिन बनाया। बता दें कि यहां क्रिसमस को आज से नहीं कई सालों से इसी दिन मनाया जा रहा है।

क्रिसमस के लिए तय किए गए इस दिन को क्विनामायो के लोग ईसा मसीह की आराधना करते हैं।

कहीं आपने भी तो नहीं कर दी आयकर रिटर्न में ये गलती, पड़ सकते हैं बड़ी मुसीबत में…

यहां के लोगों का मानना है कि “किसी भी महिला को जन्म देने के बाद 45 दिन का उपवास करना ज़रूरी है।

यही वजह है कि ये लोग दिसंबर नहीं बल्कि फरवरी में क्रिसमस मनाते हैं, ताकि मैरी भी उनके साथ जश्न में शामिल हो सकें।

इस जश्न के तहत कोई भी एक गांववाला ईसा मसीह की लकड़ी से बनी खास प्रतिमा को सालभर अपने घर में सुरक्षित रखता है। जिसे लोग घर-घर जाकर खोजते हैं।

=>
LIVE TV