आज का सुविचार : चाणक्य नीति : इन 3 नियमों को अपनाएं, सफलता आपके कदम चूमेगी

आचार्य चाणक्य बहुत गुणवान और विद्वान थे। वह शिक्षक के साथ ही एक कुशल अर्थशास्त्री भी थे। इसके लिए चाणक्य ने पूरी निष्ठा से गहन अध्ययन किया था। चाणक्य ने अपने कौशल और बुद्धि के बल से जीवन में सफलता प्राप्त करने की कई नीतियां बनाई थीं। चाणक्य नीति में बताया गया है कि जिंदगी में अगर सफलता पाना चाहते हो तो इन 3 बातों को कभी न भूले।

चाणक्य कहते हैं कि समाज में सभी व्यक्ति मान-सम्मान पाने की चाहता दिल में रखते है। मान-प्रतिष्ठा हासिल करने के लिए व्यक्ति कई जतन भी करता है। लेकिन समाज में आदर मिले यह जरूरी नहीं है। इसलिए सम्मान पाने के से पहले दूसरो का सम्मान करने की आदत डालनी चाहिए । जब आप दूसरो का आदर सम्मान करेंगे तो सामने वाला भी आपके मान – प्रतिष्ठा के लिए सदैव तत्पर रहेगा।

चाणक्य कहते हैं कि लाभ या स्वार्थ के लिए व्यक्ति को कभी अपना स्वभाव नहीं बदलना चाहिए। आज के सामाज में लोग अधिकतर लोग जिस तरफ उन्हें लाभ दिखता है उसके बोल बोलने लगते है। लेकिन इंसान को लाभ के लिए अनुशासन को नहीं भूलना चाहिए। जो व्यक्ति लाभ के लिए ऐसा करते हैं उन्हें समाज में अपमान झेलना पड़ता है। चाणक्य कहते हैं कि जो कार्य मानव हित में हो वहीं व्यक्ति को करने चाहिए।

चाणक्य नीति कहती है कि व्यक्ति को दूसरों के साथ व्यवहार को लेकर काफी सजक और सर्तक रहना चाहिए। व्यक्ति को दूसरों के साथ जैसा बर्ताव खुद के साथ सहने की क्षमता हो वैसा ही बर्ताव करना चाहिए। हमेशा अपने स्वभाव में विनम्रता लानी चाहिए। चाणक्य कहते हैं कि व्यक्ति अपने विनम्र स्वभाव के जरिए हर क्षेत्र में सफलता प्राप्त कर सकता है।

=>
LIVE TV