आखिर क्यों हटाए गए मनोज तिवारी, जाने क्या है वजह…

देश की राजधानी दिल्ली से मंगलवार को बड़ी खबर सामने आई. भारतीय जनता पार्टी ने मनोज तिवारी को प्रदेश अध्यक्ष के पद से हटा दिया है, इसी के साथ पूर्व मेयर आदेश गुप्ता को दिल्ली बीजेपी का चीफ बनाया गया है. बता दें कि इसी साल दिल्ली में हुए विधानसभा चुनाव में भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ा था.

मनोज तिवारी साल 2016 में दिल्ली बीजेपी के अध्यक्ष बने थे, ऐसे में अब जब उन्हें चार साल हो गए हैं तो बीजेपी की ओर से उन्हें बदलने का फैसला लिया गया.

मनोज तिवारी का प्रदेश अध्यक्ष पद जाने के पीछे दिल्ली हार एक बड़ी वजह है, ऐसे में अब आदेश गुप्ता को प्रदेश अध्यक्ष बनाया गया है. आदेश गुप्ता का नाम कई लोगों के लिए चौंकाने वाला है, वह इससे पहले NDMC के मेयर रह चुके हैं.

दिल्ली के चुनाव में भाजपा को लगातार दो बार करारी हार का सामना करने को मिला है. बीजेपी की ओर से पहले पूर्वांचली वोटरों को लुभाने के लिए मनोज तिवारी को अध्यक्ष बनाया गया था, चुनाव से पहले उनके दिल्ली सीएम के उम्मीदवार बनाए जाने की भी चर्चा भी काफी हुई थी.

नया चेहरा या चुनावी हार का असर?

हालांकि, दिल्ली बीजेपी में स्थानीय लेवल पर राजनीति लगातार जारी रही थी और कई बार मनोज तिवारी को विरोध का सामना करना पड़ा. अब एक बार फिर दिल्ली बीजेपी की ओर से कोशिश की गई है कि नया चेहरा लाकर संगठन में जान फूंकी जाए.

आदेश गुप्ता व्यापारी समाज से आते हैं, ऐसे में एक बार फिर बीजेपी अपने कोर वोटरों को लुभाने की कोशिश में जुट गई है.

बता दें कि लगातार बयानबाजी हो या फिर हाल ही में कोरोना संकट के बीच क्रिकेट खेलना, मनोज तिवारी का नाता लगातार विवादों से भरपूर रहा है. मनोज तिवारी की अध्यक्षता में ही भाजपा को दिल्ली के विधानसभा चुनाव में सिर्फ 8 सीटें मिली थीं, जबकि मनोज तिवारी लगातार 45 से अधिक सीटों का दावा कर रहे थे.

=>
LIVE TV