अब तक जारी है बीएचयू की छात्राओं को सड़क पर प्रदर्शन, इस घटना से हैं आक्रोशित

Report- KASHINATH SHUKLA

वाराणसी :- महामना की बगिया काशी हिंदू विश्वविद्यालय की छात्राएं एक बार फिर छेड़खानी की घटना को लेकर आरोपित प्रोफेसर की बर्खास्तगी की मांग को लेकर धरना प्रदर्शन जारी रखा हुआ है। शनिवार रात आठ बजे से शुरू हुआ छात्राओं का यह कुलसचिव के आश्वासन के बाद भी समाप्त नही हुआ।

काशी हिंदू विश्वविद्यालय के जंतु विज्ञान विभाग से जुड़े प्रोफेसर एसके चौबे की बर्खास्तगी की मांग को लेकर शनिवार रात से छात्राओं ने मोर्चा खोलते हुए विश्विद्यालय के लंका स्तिथ मुख्य द्वार बंद कराते हुए छात्राएं तख्ती बैनर संग नारेबाजी करते हुए वही धरने पर बैठ गई। इस दौरान प्रशासनिक अधिकारियों ने मनाने की कोशिश की लेकिन छात्र कुलपति को बुलाने की मांग पर अड़ी रही।

छात्राओं का आरोप है कि पूरी कक्षा की गवाही देने और जांच रिपोर्ट में दोषी पाए जाने के बाद भी आरोपित प्रोफेसर एसके चौबे को महत्तम ही देते हुए छोड़ दिया गया वर्तमान सत्र में उन्हें दोबारा अध्यापन करने की अनुमति मिल गई है इसी वजह से नाराज छात्राएं एकजुट होकर ऐसे प्रोफेसर के खिलाफ बर्खास्तगी की मांग को लेकर धरना प्रदर्शन कर रही हैं।

डॉक्टर की लापरवाही से गई युवकी की जान, जानें पूरा मामला

इसके साथ ही छात्राओं की मांग है कि विश्वविद्यालय में महिला उत्पीड़न आयोग की संस्तुति के तहत निर्भया कांड के समय 2013 में प्रस्तावित महिला उत्पीड़न सेल की स्थापना की जाए। इसके साथ ही छात्राएं कुलपति प्रोफेसर राकेश भटनागर को बुलाने की मांग पर दूसरे दिन भी विश्वविद्यालय के गेट पर अड़ी हुई हैं। हालांकि विश्वविद्यालय प्रशासन की ओर से रजिस्ट्रार डॉ नीरज त्रिपाठी जी प्रोफेसर ओपी राय एवं छात्र अधिष्ठाता प्रो फेसिअल बोर्ड के सदस्य प्रोफेसर ने छात्राओं को समझाने का प्रयास किया लेकिन छात्राये अभी वीसी को बुलाने और प्रोफेसर की बर्खास्त को लेकर अपने प्रदर्शन कर जारी रखी है।

=>
LIVE TV