एयरबस सब्सिडी पर डब्ल्यूटीओ ने दोहराया अपना निर्णय

जेनेवा। विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) ने मंगलवार को अपने उस निर्णय को बरकरार रखा, जिसमें उसने कहा था कि यूरोपीय संघ ईयू और उसके चार सदस्य देशों -फ्रांस, जर्मनी, स्पेन और ब्रिटेन- ने विमान निर्माता एयरबस को अवैध सब्सिडी जारी रखकर डब्ल्यूटीओ के पूर्व के आदेश का पालन नहीं किया है।

यह भी पढ़ें : अफगानिस्तान : संघर्ष में 44 आतंकियों व 10 सैनिकों की मौत

विश्व व्यापार संगठन

खबरों के मुताबिक, डब्ल्यूटीओ के अपीली निकाय ने मंगलवार को अनुपालन समिति के पूर्व के एक निष्कर्ष को बरकरार रखा, जिसमें कहा गया था कि एयरबस को मुहैया कराया गया ईयू की प्रारंभिक सहायता अमेरिकी विमान विनिर्माता बोइंग के साथ दोहरे गलियारे वाले और विशाल विमान बाजार में प्रतिस्पर्धा करने में बिक्री में नुकसान का कारण बना।

यह भी पढ़ें : नेपाल में भयानक विमान दुर्घटना, 2 पायलटों की मौत

अपीली निकाय ने यह भी कहा कि एयरबस ने अपने नए विमान ए350 एक्सडब्लूबी के विकास के लिए वित्तपोषण पर बाजार की ब्याज दर से भी कम का भुगतान किया और यह सस्ता वित्तपोषण फ्रांस, जर्मनी, स्पेन और ब्रिटेन की सरकारों द्वारा प्रदान किया गया। जिससे एयरबस को फायदा पहुंचा और अवैध सब्सिडी इकठ्ठा की गईं।

देखें वीडियो :-

=>
LIVE TV