Friday , September 21 2018

काश परिवार का पेट भरने वाले इन बच्चों का भी बचपन होता!

रिपोर्ट- पंकज श्रीवास्तव

गोरखपुर। कहा जाता है की बचपन हर गम से बेगाना होता है  लेकिन कुछ बच्चे ऐसे होते है जिन्होंने बचपन क्या होता है ये जाना ही नहीं। जी हाँ हम बात कर रहे है उन बच्चों की जिनको दो जून की रोटी कमाने के लिए दिन भर मौत से खेलना पड़ता है।

pic

रस्सी पर करतब दिखाने वाली गुड़िया जिसकी उम्र बच्चों के साथ खेलने कूदने और पढ़ने की है उस उम्र में गुड़िया ने अपने परिवार का पेट पालने का जिम्मा उठा रखा है क्योंकि इसके परिवार में और कोई काम करने वाला नहीं गुड़िया और इसकी माँ की माने तो ये करना इनकी मज़बूरी है  क्योंकि किसी भी सरकार ने इनपर कभी ध्यान ही नहीं दिया जिससे ये भी पनप सके। न घर और न रोजगार के साधन इसलिए मजबूरी में ये जान जोखिम में लेकर ये सब करते है।

यह भी पढ़े: युवती को आगवा कर जंगल में किया गैंगरेप, पीड़िता को पुलिस ने बताया फर्जी

सर पर कई लोटे का बोझ लिए कभी सायकिल की रिम,और  कभी थाली में घुटनों के सहारे रस्सी पर इनको चलता देख लोगो को इनका करतब तो खूब भाता है लेकिन कही न कही इनकी मजबूरी उनको भी सालती है उनका कहना है की ये क्या करे आखिर पेट का जो सवाल है।

=>
LIVE TV