RBI ग्राहकों के लिए ला रही है नया ऑफर , मिलेंगे कई फायदे

नई दिल्ली : रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने सिस्टम में नगदी तरलता बढ़ाने के लिए करीब 35,000 करोड़ रुपये डालेगा। जहां ये नकदी बैंको के साथ तीन साल के लिए विदेशी विनिमय प्रबंधन के जरिए डाली जाएगी। और इस प्रावधान के तहत बैंक स्वैप अवधि के आखिर में RBI को अमेरिकी डॉलर बेच सकेंगे। देखां जाये तो आरबीआई ने बयान में कहा कि दीर्घावधि के लिए नकदी तरलता बढ़ाने की योजना के तहत यह कदम उठाया जा रहा है।

आरबीआई

 

राहुल ने कसा तंज शी जिनपिंग से डर गए मोदी, लेकिन बीजेपी ने दिखा दिया…

बता दें की डॉलर विनिमय की सुविधा 26 मार्च को खोली जाएगी। लेकिन प्रक्रिया में भाग लेने प्रतिभागी प्रीमियम के तौर पर बोली लगाएंगे, जो उन्हें आरबीआई को भुगतान करनी होगी। जहां इसके लिए न्यूनतम बोली का आकर 2.50 करोड़ डॉलर यानी करीब 175 करोड़ रुपये का होगा, जो 1 मिलियन डॉलर (7 करोड़ रुपये) के गुणांक में होगा।

 

आरबीआई

 

 

दरअसल आरबीआई की ओर से पैसा बैंकिंग सिस्टम में डाले जाने से बैंकों को काफी राहत मिल सकती हैं, तो वहीं बैंकों को मिली इस राहत का फायदा आम लोगों को भी हो सकेगा। लेकिन ये पैसा सिस्टम में आने से बैंक असानी से छोटे उद्योगों व आम लोगों को लोन दे सकेंगे।

=>
LIVE TV