#PANAMA: मामले की जांच के लिए ‘मल्टी एजेंसी ग्रुप’ का गठन

Untitled1-1443364861एजेन्सी/नई दिल्ली।सरकार ने दुनिया के बड़े ‘लॉ फर्म’ में से एक पनामा के’मोज्जाक फोंसेका’ के लीक हुए गोपनीय दस्तावेजों में 500 भारतीयों के नाम सामने आने के बाद इस मामले की जांच के लिए एक विशेष मल्टी एजेंसी ग्रुप का गठन किया है। 

वित्त मंत्रालय की ओर से सोमवार को जारी एक बयान में कहा गया, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश पर इस मामले की जांच के लिए विशेष मल्टी एजेंसी ग्रुप का गठन किया गया है। 

इसमें केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी), फाइनेंशियल इंटेलीजेंस यूनिट (एफआईटी), फॉरेन टैक्स एंड टैक्स रिसर्च (एफटी एंड टीआर) विभाग की जांच इकाइयों के अधिकारी और रिजर्व बैंक के प्रतिनिधि शामिल होंगे। यह ग्रुप इस मामले से जुड़े एक-एक व्यक्ति से संबंधित जानकारी की जांच करेगा।’ 

मंत्रालय ने मीडिया में हुए इस खुलासे का स्वागत करते हुए कहा कि इससे कालेधन के स्रोतों का पता लगाने और इसकी रोकथाम में मदद मिलेगी। 

गौरतलब है कि मोज्जाक फोंसेका के लीक हुए गोपनीय दस्तावेजों में रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन, चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन के साथ ही बॉलीवुड अभिनेता अमिताभ बच्चन, उनकी पुत्रवधु और अभिनेत्री ऐश्वर्य राय बच्चन, डीएलएफ के मालिक के.पी सिंह और उनके परिवार के नौ सदस्य, अपोलो टायर्स और इंडियाबुल्स के प्रवर्तक गौतम अडानी के बड़े भाई विनोद अडानी, पश्चिम बंगाल केे दो नेताओं शिशिर बजोरिया और लोकसत्ता पार्टी की दिल्ली इकाई के अध्यक्ष अनुराग केजरीवाल, मुंबई अंडरवर्ल्ड डॉन इकबाल मिर्ची के नाम शामिल हैं।

=>
LIVE TV