रेलवे के दावों की खुली पोल, स्टेशन पर पानी पीने से लेकर बैठने तक की नहीं है व्यवस्था

रिपोर्ट- अशोक कुमार द्विवेदी

लखनऊ। उत्तर रेलवे यात्रियों की सुविधाओं के बड़े-बड़े वादे करता हैं जबकि जमीनी हकीकत कुछ और है यात्रियों की सुविधाओं के नाम पर सिर्फ भद्दा मजाक किया जा रहा है।

नल

अमौसी रेलवे स्टेशन पर रियल्टी चेक के दौरान प्रयाग स्टेशन परिसर में प्लेटफार्म नंबर एक पर पेयजल की व्यवस्था नहीं है एक हैंड पाइप है वह भी गंदा पानी दे रहा है पीने योग्य नहीं है। एक समाजसेवी लगा हुआ है वह भी टूटा हुआ पूरे प्लेटफार्म नंबर एक पर पीने का पानी नहीं है वही प्लेट फार्म पर गंदगी मिलेगी।

वहीं पर यात्री प्रतीक्षालय ना होने से यात्रियों को खुले में बैठना पड़ता है जिस वजह से काफी असुविधा होती है प्लेटफॉर्म पर टीन शेड ना होने से यात्री को मजबूरन बारिश में भीगना पड़ता है।

यह भी पढ़े: तीन तलाक मामले की सजा को लेकर कैबिनेट नरम, संसोधन में मंजूर हुआ जमानत का प्रावधान

वही जो सुबह 5:00 बजे लाइव टुडे की टीम रियलिटी चेक पुलिस स्टेशन परिसर में पहुंची हड़कंप मच गया। उसी वक्त सोते हुए स्टाफ को जगाया गया जब अमौसी रेलवे स्टेशन मास्टर अरविंद कुमार शर्मा से बात करने की कोशिश की। उन्होंने कहा हम मीडिया को जवाब देने के लिए यहां नहीं बैठे हैं। हम अपना काम कर रहे हैं आपको जो करना है जो दिखाना है दिखाइए बात करने से मना कर दिया। यह हमारे रेलवे की हालत है यात्रियों की सुविधाओं के साथ हो रहा मजाक क्या यही रेलवे की सुरक्षा व्यवस्था है।

=>
LIVE TV