केवल घर से ही ऑफिस से भी हो सकते हैं बीमार, यह है बचने के खास तरीके

बीमारी एक ऐसा शब्द है जिसका नाम तक कोई सुनना नहीं चाहता है। यह बीमारी नामक कीड़ा कभी भी कहीं भी आपको अपना शिकार बना सकता है। कुछ लोगों का सूचना है कि यह बीमारी केवल घर के बाहर ही हो सकती है बल्कि घर या ऑफिस में नहीं। तो आज हम आपको यह बताकर आपकी सोच बदल देते हैं कि ऑफिस में भी अगर आप लापरवाही बरतते हैं तो आपके बीमारी होने की आंशका अधिक बढ़ जाती है। आज हम आपकी इस बीमारियों से छुटकारा दिलाने के लिए ऑफिस में किस तरह का ध्यान रखें इस बात के बारे में बताने में जा रहे हैं।

बीमारी

हानिकारक केमिकल्स

ऑफिस में बिछे कारपेट और फर्नीचर का सफाई अब केमिकल बेस क्लिंदर से की जाती है। यह केमिकल हमारी सेहत के लिए काफी खतरनाक साबित हो सकते हैं। इन केमिकल में सांस को बांधा पहुंचाने वाले केमिकल पाए जाते हैं। यह केमिकल आपके सांस लेने के माध्यम से आपके शरीर में प्रवेश करते हैं और आपकी रक्त नलियों को काफी हद तक प्रभावित भी करते हैं। इन कमिकल से कारण आपको सर्दी जुकाम के साथ-साथ एक से एक खतरनाक बीमारियां भी होने लगी है। इस हवा के असर से कई लोगों को तो अस्थमा तक की शिकायत देखने को मिली हैं। यह बीमारियां तेजी से एक इंसान से दूसरे इंसान में फैल जाती है।

दिल्ली में वायु प्रदूषण का स्तर बेहद खतरनाक, मददगार साबित होगी ‘माइऑक्सी’

कार्बनडाइऑक्साइड

दफ्तरों में देखा जाता है कि लोग तो बहुत ज्यादा होते हैं, लेकिन वेंटिलेशन ठीक नहीं होता है, जिसके कारण ऑफिस में कार्बनडाइऑक्साइड का स्तर अधिक हो जाता है। कमाल की बात तो ये कि, दफ्तर में मौजूद लोग ही कार्बनडाइऑक्साइड का प्रमुख स्रोत होते हैं। दफ्तर से बाहर ‘सीओटू’ सामान्यत: 380 पीपीएम तक होती है, लेकिन दफ्तर में यह हजार पीपीएम तक भी पहुंच सकती है, और इसके कारण सांस संबंधी समस्याएं हो सकती हैं।

बीमारी

पेड़ और पौधे

इन केमिकल और गैसों से निकलने वाला फॉर्मेलडिहाइड बाकी इन्य केमिकल ती तुलना में काफी खतरनाक होता है। लेकिन इनके प्रभाव को आप कम कर सकते हैं। इसके प्रभाव को कम करने के लिए आप घर और ऑफिस में कई तरह के पौधे लगा सकते हैं। इन पौधों के माध्यम से आपको ऑक्सीजन भी मिलता रहेगा और आपको सांस लेने मं किसी भ तरह की कोई परेशानी का भी सामना नहीं करना पड़ेगा। इसके अलावा आपको ऑफिस वक्त से समय मिकाल कर बाहर की घुली हवा में भी जाना चाहिए। साफ और फैश हवा में रहने से आपका सीओटू लेवर भी बरकरार रहेगा।

 

=>
LIVE TV