#NIA: 53 मोबाइल में ही हत्याकांड की सारी मिस्ट्री उलझी हुई है

एजेन्सी/519841-mobiletower-1363120895-709-640x480आईजी बरेली जोन विजय सिंह मीणा ने बताया कि वारदात के समय सहसपुर बीटीएस टॉवर पर 53 मोबाइल एक्टिवेट थे, जिनकी कॉल डिटेल की जांच की जा रही है। पुलिस सूत्रों की मानें तो जिस तरह से वारदात को अंजाम दिया गया है, उससे साफ है कि किसी ने फोन पर हमलावरों को तंजील अहमद की लोकेशन की जानकारी जरूर दी होगी। ऐसे में इन 53 मोबाइल में ही हत्याकांड की सारी मिस्ट्री उलझी हुई है।

एनआईए अफसर के हत्यारोपियों तक पहुंचने के लिए सर्विलांस का सहारा लिया जा रहा है। तंजील और उनके परिवार के पांच मोबाइल नंबरों की कॉल डिटेल की जांच हो रही है। इसमें 25 नंबर वेस्ट यूपी से जुड़े हुए हैं। तंजील की हत्या में फील्ड वर्क एसटीएफ बरेली की टीम को दिया गया है, जबकि सर्विलांस का काम मेरठ एसटीएफ देख रही है।

एसटीएफ ने तंजील और उनके परिवार के पांच नंबरों की कॉल डिटेल ले ली है। अलग-अलग कंपनियों के दो नंबर तंजील खुद प्रयोग करते थे। आइडिया के नंबर से अंतिम कॉल रात को 10.21 बजे थी, जबकि वोडाफोन के नंबर पर अंतिम कॉल 8.15 पर हुई थी।

बंधन बैंक्वेट हॉल में शनिवार को तंजील अहमद अपनी भानजी के निकाह में आए थे। इस मंडप में सीसीटीवी कैमरे नहीं लगे हुए हैं। सोमवार को जांच एजेंसियों को एक सफलता तब मिलती दिखी जब इस बैंक्वेट हॉल से मुश्किल से आधा किमी दूर स्थित एक स्कूल के सीसीटीवी में वारदात के समय दो बाइकों की फुटेज रिकार्ड हुई। सोमवार को कैमरे की फुटेज खंगाली तो रात 1:09 पर दो बाइकों की लोकेशन मिली। अंधेरा होने के कारण फुटेज क्लीयर नहीं है, लेकिन बाइकों पर चार लोग सवार दिख रहे है।

सहसपुर निवासी तंजील के पड़ोसियों की मानें तो शनिवार को शादी के दौरान चार संदिग्ध लड़कों को देखा गया था। उनसे पूछताछ भी की थी। दोनों काली बाइक पर सवार होकर आए थे। जब उनसे पूछा गया तो उन्होंने किसी इकबाल सिंह के यहां आने की बात कही थी। तब उनको बताया गया कि शादी इकबाल अहमद के घर है।

जांच एजेंसियों ने वेस्ट यूपी के हार्डकोर 50 शूटरों की लिस्ट तैयार की है। इनमें से कई वेस्ट यूपी के हैं। मुजफ्फरनगर, अमरोहा, संभल के शूटरों के नाम भी लिस्ट में शामिल हैं जो अत्याधुनिक हथियारों का इस्तेमाल करते हैं।0:46

=>
LIVE TV