एनआईए के डिप्टी एसपी तंजील अहमद की हत्या के मामले को यूपी पुलिस ने सुलझा लिया है। पुलिस ने बताया कि तंजील का मर्डर मुनीर, रेयान और जैनी ने किया है। बरेली जोन आईजी विजय सिंह मीणा ने खुलासा किया कि अफसर का मर्डर पारिवारिक रंजिश के कारण हुआ है। बता दें कि भांजी की शादी से लौट रहे हैं एनआईए अफसर तंजील को दो लोंगों ने बाइक से रोक गोलियों से भून दिया था। 

आईजी मीणा ने बताया कि तंजील के बहनोई के भतीजे और हत्या में आरोपी रेयान ने बताया कि तंजील ने उसकी कई मौकों पर मदद नहीं की थी। इस बात से वह काफी नाराज था। उन्होंने बताया कि इस मामले में मुख्य आरोपी मुनीर की तालाश की जा रही है। 

मुंजीर ने मारी थी तंजील को गोली

बरेली रेंज के आईजी विजय कुमार मीणा ने मंगलवार को प्रेस कांफ्रेंस करके तंजील हत्याकांड का पर्दाफाश करते हुए बताया कि मुनीर ने ही तंजील अहमद को गोलियां मारी थी। पिछले साल दिसंबर में धामपुर में बैक का 91 लाख रुपये मुनीर के गैंग ने ही लूटे थे।

क्या थी हत्या की वजह?

आईजी ने बताया कि इस हत्याकांड की मुख्य वजह पारिवारिक विवाद था। आरोपी रेयान जो तंजील का रिश्तेदार था। उसके हितों के खि‍लाफ तंजील ने दखल दिया था और उसकी कई मौकों पर मदद नहीं की थी। इसमें दुकान का पारिवारिक मामला था। इसके अलावा प्रॉपटी डीलिंग में भी उन्होंने रेयान की मदद नहीं की थी। इन सबसे रेयान काफी आक्रोशित था। वहीं मुजीर को डकैती में अपनी मुखबिरी होने का डर था।