कौशल प्रशिक्षण के लिए ह्युंडई मोटर ने की एएसडीसी से साझेदारी

नई दिल्ली। भारत की दूसरी सबसे बड़ी कार निर्माता कंपनी ह्युंडई मोटर इंडिया लि. ने अकुशल श्रमबल को प्रशिक्षित करने और उनके लिए रोजगार के अवसर तैयार करने के लिए ऑटोमोटिव स्किल डेवलपमेंट काउंसिल (एएसडीसी) के साथ एमओयू (समझौता पत्र) पर हस्ताक्षर किया है।

कौशल प्रशिक्षण

कंपनी ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि इसमें 18 साल से अधिक आयु और कम से कम 8वीं कक्षा तक की शिक्षा प्राप्त लोगों को प्रशिक्षित किया जाएगा।

यह भी पढ़ें:- उद्धव ठाकरे ने भाजपा पर बोला हमला, कहा- भ्रष्टाचार रोकने में विफल रही सरकार

बयान में कहा गया है कि समझौते के तहत प्रशिक्षण कार्यक्रम का संचालन ह्युंडई की विश्वस्तरीय टेक्निकल ट्रेनिंग अकेडमी – एचटीटीए के सहयोग से देशभर में ह्यूंडई की छह डीलरशिप में किया जाएगा। प्रशिक्षण को सफलतापूर्वक पूरा करने वाले छात्रों को ह्यूंडई की विभिन्न वर्कशॉप में सर्विस सपोर्ट टेक्नीशियन और वाशर जैसे आफ्टर सेल्स जॉब का मौका दिया जाएगा।

कंपनी के निदेशक (बिक्री व विपणन) एस. जे. हा ने कहा, “भारत में आफ्टर सेल्स ऑपरेशन के लिए किसी वाहन निर्माता की ओर से यह इस तरह की पहली पहल है। एक जिम्मेदार और केयरिंग ब्रांड के रूप में ह्युंडई सरकार की स्किल इंडिया पहल के साथ है और इसके लिए प्रतिबद्ध है। हम सभी राज्यों में विभिन्न आईटीआई और पॉलीटेक्निक संस्थानों के साथ मिलकर काम कर रहे है। भारत के युवाओं को कुशल बनाने और उन्हें रोजगार मुहैया कराने की दिशा में हमारी प्रतिबद्धता को इस एमओयू से और मजबूती मिलेगी।”

यह भी पढ़ें:- मराठा आरक्षण आंदोलन हुआ हिंसक, प्रदर्शनकारियों ने दमकल वाहन को लगाई आग, पुलिसकर्मी घायल

बयान के अनुसार, प्रशिक्षण के इच्छुक (ट्रेनी) लोगों को एएसडीसी द्वारा तैयार ऑटोमोटिव सर्विस टेक्नीशियन और वाशर ट्रेनिंग जैसे विभिन्न ऑटोमोटिव ट्रेनिंग पाठ्यक्रमों में से चुनने का विकल्प मिलेगा। युवाओं और अकुशल लोगों को एएसडीसी के प्रशिक्षण शुल्क में छूट दी जाएगी। यह प्रशिक्षण उन्हें देशभर में ह्यूंडई की विभिन्न डीलरशिप में आफ्टर सेल्स ऑपरेशन के मोर्चे पर रोजगार के योग्य बनाएगा।

देखें वीडियो:-

LIVE TV