Coronavirus effect कोरोना काल में शरीर की इम्यूनिटी और ताकत बढ़ाने के लिए लोग तमाम दवाओं का कर रहे इस्तेमाल

कोरोना काल में शरीर की इम्यूनिटी और ताकत बढ़ाने के लिए लोग तमाम दवाओं का इस्तेमाल कर रहे हैं। इससे इन दवाओं की डिमांड पहले से बहुत ज्यादा बढ़ गई है। डिमांड के मुताबिक दवा कंपनियां दवाओं की आपूर्ति नहीं कर पा रही हैं। जिसकी वजह से करीब 10 दिन से बाजार में इम्यूनिटी और ताकत बढ़ाने वाली दवाओं का भारी टोटा हो गया है। यही नहीं, कई अन्य बीमारियों की दवाओं और इंजेक्शन की भी भारी कमी हो गई है। इससे मरीजों को भी परेशानी हो रही है।

टीबी और पेट की बीमारी संबंधी दवाओं की कमी

जिंकोविट टैबलेट मल्टी विटामिन है, जो इम्यूनिटी बढ़ाने में बहुत सहायक है। लिमिसी विटामिन सी कोरोना महामारी में बहुत लाभदायक है। बेटोनिन 450 एमएल ताकत बढ़ाने के लिए है। वर्मैक्ट 12 पेट के कीड़े, फॉरकॉक्स, आरसिन सिरप और आरसिनेक्स ईजेड टीबी की दवाएं हैं। बेटनीसॉल एंपुल इंजेक्शन भी महत्पवूर्ण है। बावजूद इसके इन दवाओं की बाजार में भारी कमी है। इम्युनिटी और ताकत बढ़ाने वाली इन दवाओं की डिमांड के हिसाब से कंपनियां पर्याप्त आपूर्ति नहीं कर पा रही हैं।

डिमांड के मुताबिक कंपनियां नहीं कर रही है सप्‍लाई

टीबी और पेट की बीमारी संबंधी दवाओं की मांग नहीं बढ़ी है, फिर भी इन दवाओं की सप्लाई कंपनियां पर्याप्त मात्रा में नहीं कर पा रही हैं। इससे मरीजों को एक मेडिकल स्टोर से दूसरे मेडिकल स्टोर का चक्कर काटना पड़ रहा है। इलाहाबाद केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष अनिल दुबे का कहना है कि यह सभी दवाएं महत्वपूर्ण हैं। इसलिए कंपनियों को डिमांड के मुताबिक आपूर्ति करना चाहिए।

=>
LIVE TV