धर्म

आज का पंचांग, 12 फरवरी 2020, दिन- बुधवार

आज का पंचांग

विक्रम सम्वत- 2076 परिधावी शक सम्वत – 1941 विकारी वार- बुधवार अयन- दक्षिणायण मास – पौष पक्ष- कृष्ण पक्ष नक्षत्र – उत्तराफाल्गुनी योग –धृति तिथि –चतुर्थी दिशा शूल –उत्तर में सूर्योदय-  07: 03 am सूर्यास्त –  06:09 pm राहुकाल-  12: 14 – 13: 31 =>

Read More »

आज का राशिफल, 12 फरवरी 2020, दिन- बुधवार

आज का राशिफल

Aries (मेष) आज का दिन : निजी जीवन के किये प्रयत्नों का पूरा फल नहीं मिलने से तनाव बढ़ेगा। जीवनसाथी से वैचारिक मतभेद समाप्त होंगे। व्यापार-व्यवसाय मध्यम रहेगा। आडंबरों से दूर रहें। बहनों के विवाह की चिंता रहेगी।   Taurus (वृष) आज का दिन : समय-समय पर अपने किये कार्यों का अवलोकन ...

Read More »

आज का पंचांग, 11 फरवरी 2020, दिन- मंगलवार

आज का पंचांग,

विक्रम सम्वत- 2076 परिधावी शक सम्वत – 1941 विकारी वार- मंगलवार अयन- दक्षिणायण मास – पौष पक्ष- भरणी नक्षत्र – पूर्वाफाल्गुनी योग –अतिगण्ड तिथि –तृतीया दिशा शूल –उत्तर में सूर्योदय-  07: 03 am सूर्यास्त –  06:08 pm राहुकाल-  12: 14 – 13: 31 =>

Read More »

आज का राशिफल, 11 फरवरी 2020, दिन – मंगलवार

आज का राशिफल,

Aries (मेष) आज का दिन : क़ानूनी परेशानिया दूर होंगी भय बना रहेगा। सत्संग का लाभ मिलेगा। यदि आप आपके लिए कुछ नया शुरू करने की योजना बना रहे हैं तो जल्दबाजी ना करें, सभी पक्षों का सही से मूल्यांकन करें उसके पश्चात ही कोई निर्णय करें। बुरी बातें : खर्च ज्यादा ...

Read More »

बड़ी धूमधाम से कल मनाया जाएगा संकष्टी चतुर्थी का त्योहार, जानें क्या है खास…

संकष्टी चतुर्थी

संकटों को हरने वाली चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी कहा जाता है। इस दिन भगवान गणेश की अराधना की जाती है। हर महीने में दो बार चतुर्थी मनाई जाती है। जिसमें पूर्णिमा के बाद आने वाली चतुर्थी को संकष्टी चतुर्थी तो अमावस्या के बाद आने वाली चतुर्थी को विनायक चतुर्थी कहा ...

Read More »

आज का पंचांग, 10 फरवरी 2020, दिन- सोमवार

आज का पंचांग

विक्रम सम्वत- 2076 परिधावी शक सम्वत – 1941 विकारी वार- सोमवार अयन- दक्षिणायण मास – पौष पक्ष- कृष्ण पक्ष नक्षत्र –मघा योग –शोभन तिथि –प्रतिपदा दिशा शूल –उत्तर में सूर्योदय-  07: 04 am सूर्यास्त –  06:07 pm राहुकाल-  12: 14 – 13: 31 =>

Read More »

प्रेरक-प्रसंग: जब क्रोध बना विनाश का कारण

जब क्रोध बना विनाश का कारण

बहुत समय पहले की बात है। आदि शंकराचार्य और मंडन मिश्र के बीच सोलह दिन तक लगातार शास्त्रार्थ चला। शास्त्रार्थ मे निर्णायक थी- मंडन मिश्र की धर्म पत्नी देवी भारती। हार-जीत का निर्णय होना बाक़ी था, इसी बीच देवी भारती को किसी आवश्यक कार्य से कुछ समय के लिये बाहर ...

Read More »

चाणक्य नीति

चाणक्य नीति

आग सिर में स्थापित करने पर भी जलाती है। अर्थात दुष्ट व्यक्ति का कितना भी सम्मान कर लें, वह सदा दुःख ही देता है। =>

Read More »
LIVE TV