पुलिस और पीएसी में चल रही आरक्षी भर्ती की शारिरिक मानक परीक्षा में एक के बाद एक 13 ‘मुन्नाभाई’ की गिरफ्तारी

आगरा/वाराणसी में पुलिस और पीएसी में चल रही आरक्षी भर्ती की शारिरिक मानक परीक्षा (दौड़) में एक के बाद एक 13 ‘मुन्नाभाई’ की गिरफ्तारी से पुलिस भर्ती बोर्ड की नींद उड़ गई है। सबसे बड़ी टेंशन यह है कि कई फर्जी अभ्यर्थी अफसरों की आंख में धूल झोंककर दौड़ लगाने में कामयाब हो गए। इनमें से एक दूसरी बार की दौड़ में पकड़ा गया।

इस खुलासे के बाद सभी 12 केंद्रों पर सतर्कता बढ़ा दी गई है। भर्ती बोर्ड ने निर्देश दिए हैं कि दौड़ पूरी होने के बाद प्रत्येक चरण में चौकसी बरती जाए। खास तौर से बायोमेट्रिक टेस्ट में सावधानी बरतने को कहा है। दरअसल, इस बार की भर्ती में 200 अंकों की दौड़ का सबसे अहम रोल है।

इसमें कई गिरोह सक्रिय हो गए हैं। एक बर्खास्त एचसीपी गिरफ्तार हो चुका है। खुलासा यह भी हुआ है कि फर्जी अभ्यर्थी सेना की भर्ती में भी दौड़ लगा चुके हैं। यह पूरी रिपोर्ट आगरा पुलिस ने पुलिस भर्ती बोर्ड को भेजी।

इसके बाद दौड़ के लिए बनाए गए सभी केंद्रों पर चौकसी बढ़ा दी गई है। सबसे ज्यादा जोर बायोमेट्रिक टेस्ट पर दिया जा रहा है। आवेदन फार्म में अभ्यर्थियों से थंब इंप्रेशन ( अंगूठे का निशान ) लिया गया था। दौड़ से पहले भी थंब इंप्रेशन लिया जा रहा है। इसके आगे के चरणों में भी थंब इंप्रेशन लिया जाएगा। इसके बाद ज्वाइनिंग के समय भी इसे देखा जाएगा। अगर सभी एक जैसे नहीं मिले तो अभ्यर्थी पकड़ में आ जाएगा।

वर्जन
सिपाही भर्ती में अभ्यर्थियों की गिरफ्तारी के बारे में भर्ती बोर्ड को जानकारी भेजी गई थी। इसके बाद वहां से चौकसी बढ़ाने के दिशा निर्देश जारी किए गए हैं।
– अजय मोहन शर्मा ( डीआईजी )

=>
LIVE TV