Tuesday , December 6 2016
Breaking News

अब आरबीआई ने सैलरी वालों को दिया 440 वोल्ट का झटका

सैलरी वालों को 440 वोल्ट कानई दिल्ली। नोटबंदी के फैसले के बाद पहली बार सैलरी बांटने का दिन सामने आ गया है। वैसे तो सैलरी मिलने की तारीख करीब आते ही लोगों की खुशी का ठिकाना नहीं रहता। लेकिन इस बार आरबीआई ने सैलरी वालों को 440 वोल्ट का झटका दे दिया है। दरअसल आपके खाते में सैलरी तो पहले की तरह पूरी आएगी। लेकिन लोगों को आरबीआई के नियमों के अनुसार किश्तों में ही मिल पाएगी।

सैलरी वालों को 440 वोल्ट का झटका

ख़बरों के मुताबिक़ सैलरी तो पूरी आएगी लेकिन आप उसे टुकड़ो में ही निकाल पाएंगे। रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया ने सैलरी की निकासी पर भी कुछ पाबंदी लगा दी है। जिसकी वजह से आप अपनी सैलरी एक साथ नहीं निकल पाएंगे।

नोटबंदी के बाद धन निकासी के नियम के अनुसार आप एक सफ्ताह में चेक से 24 हजार ही निकाल सकते हैं। या फिर एटीएम से रोजाना 2500 रुपए। ऐसे में अगर आपकी सैलरी 24 हजार या उससे कम है तो आपकी बल्ले-बल्ले, लेकिन इससे अधिक होने पर आप सिर्फ किश्तों में निकाल सकते हैं। यानि हर हफ्ते 24 हजार। हालांकि ऑनलाइन ट्रांजैक्शन पूरी तरह से फ्री है।

आरबीआई के नए नियम के अनुसार 29 नवम्बर तक खाते में जमा किए गए धन से एक हफ्ते में 24 हजार निकाल सकते हैं। इतना ही नहीं आरबीआई ने नए और सौ के नोटों की होर्डिंग को रोकने के लिए भी एक नया नियम लागू किया है। अगर आप नए नोट जमा करते हैं तो उसी मुताबिक निकाल भी सकते हैं।

ऐसे में जब आम लोग बेसब्री से सैलरी का इन्तजार करते हैं, आज उनकी ख़ुशी शायद कुछ कम हो। लोगों के लिए कई काम ऐसे होते हैं जिनमें कैश की जरुरत होती है। मसलन घर का किराया, दूध वाला, स्कूल वैन, पेपर, घरेलू मेड, ड्राईवर, सब्जी वाला आपसे चेक नहीं लेता। उसे कैश की जरुरत होती है। एक सैलरी क्लास अपनी मंथली खर्चे को वेतन के हिसाब से ढाल कर चलता है। ऐसे में जब उसकी सैलरी पूरी नहीं निकलेगी तो थोड़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है।

इस साल आठ नवंबर की तारीख जमाना जिंदगी भर नहीं भूल पाएगा। इससे तारीख को पीएम मोदी ने नोट बंद का ऐलान किया था। जहां एक ओर इस फैसले से कालाधन रखने वालों में खौफ समा गया है। वहीं इमानदारों की बांछे खिल गयी हैं। देश की ज्यादातर जनता इस फैसले को सही ठहरा रही है। लोगों का मानना है कि यह फैसला देश में बराबरी का स्तर लेकर आएगा।

One comment

  1. While the demonetisation looks to be in national interest, an element of “tapa” or bearing something earlier not borne is there without doubt. And these circumstances were well described by this Vedic astrology writer as early as on 18 January 2016 in article ” 2016 – a woeful year for India with slight cheer at the end” in online magazine thesop.org. Now , this writer’s alerts for more care and appropriate strategy have been made public on 27 November 2016 in article ” 2017 – an opportune year for India with major worrisome concerns in February- March and August- September”. These alerts were under submission to some news magazines in October and also on 6th November 2016 also but they look to have chosen to be silent. Briefly speaking , the year has been divided into three spells of time from the viewpoint of different shades of planetary influences constituting potential for certain circumstances. So first spell is from January to March 2017. If December is also added , it can be four months. This spell looks to be presenting circumstances in which more work with less result could be seen. So accept to do more work and be calm, hoping for better days to come. It seems a rough weather testing our power of patience and fortitude. So take more recourse to patience and fortitude hoping for better days to come. April to July having four months seems to be different , a spell of opportunity followed by realisation during the said four months itself. Women may cheer up. Party ruling country from Delhi could also , by and large , have cheer up to an extent. Economy may get straightened up to an extent. Reasonable success in efforts could be likely. The third spell of five months from August to December 2017 is also continuing to present opportunities and realisation but not as much as in April -July. There appear to be two spells of time February-March and August-September which may require more care and appropriate strategy. While February- March could present tough times for political class or those well known in business or society , some happenings of health hazard cannot be ruled out. Northern India particularly Himalayan belt could take more care about quake jolts, fog and the like. Some stress on account of terror could also be there. March could bring a mini war, at least on economic front. August- September seem to be presenting floods and danger through sea. Coastal regions may take more care and recourse to appropriate strategy as some dangerous cyclone or storm can devastate on land. Andhra -Telangana-TamilNadu -Daman &Diu , Dadra Nagar Haveli , Goa may like to consider. While these are brief indications calling for more care and appropriate strategy , these do NOT mean to be carrying character of certainty as these are indications of likely trends and not actual happenings. Further , human effort or strategy has important role in shaping circumstances. So no panic but more effort.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

LIVE TV