सेना प्रमुख बोले- LoC पार बड़ी संख्‍या में लॉन्चिंग पैड मौजूद, सीमा पार के आतंकियों को खटक रहा घाटी का अमन चैन

सेना प्रमुख ने शनिवारको कहा कि सीमा पार के आतंकी जम्मू-कश्मीर में लगातार घुसपैठ की कोशिशें कर रहे हैं। आतंकी केंद्र शासित प्रदेश में सामान्य लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं को बाधित करने की फि‍राक में हैं। सेना प्रमुख जनरल एमएम नरवाने ने यहां एक संवाददाता सम्‍मेलन में कहा कि देश की पश्चिमी सीमाओं पर आतंकवाद एक गंभीर खतरा बना हुआ है। तमाम दबावों के बावजूद सीमा पार आतंकवाद को खत्‍म नहीं किया जा सका है। एलओसी यानी नियंत्रण रेखा के उस पार आतंकियों के लॉन्चिंग पैड हैं।

सेना प्रमुख ने कहा कि आतंकी जम्‍मू-कश्‍मीर में सामान्य लोकतांत्रिक प्रक्रियाओं को बाधित करने के इरादे से घुसपैठ की कोशिशें करते हैं। आतंकी कड़ाके की सर्दियां शुरू होने से पहले घुसपैठ की कोशिश में हैं। आतंकी दक्षिण की ओर बढ़ने लगे हैं और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सुरंगों के जरिए निचले क्षेत्रों में घुसपैठ की कोशिशें कर रहे हैं। इससे पहले सेना प्रमुख ने इंडियन नेवल एकेडमी की पासिंग आउट परेड की समीक्षा की। इस परेड में कुल 164 कैडेट अधिकारी बने। सेना प्रमुख ने इन जवानों से कठिन प्रशिक्षण जारी रखने की अपील की।

नरवाने ने कहा कि मौजूदा वक्‍त में देश कई चुनौतियों का सामना कर रहा है। इनमें घरेलू और बाहरी दोनों तरह की चुनौतियां हैं। सशस्त्र बल देश की रक्षा के सबसे मजबूत स्तंभ हैं। युद्ध में उपविजेता जैसी कोई चीज नहीं होती है। ऐसे में हमें हर समय देश के लिए तत्पर रहना है, चाहे वह युद्ध की स्थिति हो या प्राकृतिक आपदाओं की मार हो, कानून व्यवस्था बनाए रखना हो या राजनयिक मिशन हो।

जम्मू-कश्मीर में पहली बार होने जा रहे जिला विकास परिषद (डीडीसी) के चुनाव से मजबूत होते लोकतंत्र से पाकिस्तान पूरी तरह बौखला गया है। पाकिस्तानी सेना नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर आए दिन आतंकियों की घुसपैठ करना ने की मंशा से गोलीबारी कर रही है। पाकिस्‍तानी सेना ने शुक्रवार को लगातार दूसरे दिन भी भारी गोलाबारी जारी रखते हुए राजौरी जिले के सुंदरबनी और जम्मू के अखनूर सेक्टर के साथ सटे केरी बट्टल इलाके को निशाना बनाया। पाकिस्तानी गोलाबारी का जवाब देते हुए सेना के दो जवान बलिदान हो गए।

पाकिस्तान के बढ़ते दुस्साहस को देखते हुए सीमा पर सेना व सुरक्षाबल हाई अलर्ट पर हैं। वहीं, 28 नवंबर से शुरू हो रहे डीडीसी चुनाव को देखते हुए सैन्य अधिकारी एलओसी और अंदरूनी इलाकों में स्थिति पर नजर बनाए हुए हैं। पाकिस्तान ने गत गुरुवार को भी पुंछ में एलओसी पर गोलाबारी की थी जिसमें सेना की 16 गढ़वाल राइफल के सूबेदार स्वतंत्र सिंह शहीद हो गए थे और एक स्थानीय नागरिक भी घायल हुआ था। इसके बाद गुरुवार दोपहर को श्रीनगर में आतंकी हमले में सेना की क्विक रिएक्शन टीम के दो जवान सिपाही रतन सिंह और सिपाही देशमुख यश वीरगति को प्राप्त हुए थे।

=>
LIVE TV