सरौरा गांव में खेत के चारों ओर लगे तारों में करंट से एक किशोर की हुई मौत

सरौरा गांव में खेत के चारों ओर लगे तारों में करंट से एक किशोर की मौत हो गई, जबकि उसे बचाने के दौरान उसका बड़ा भाई भी करंट लगने से झुलस गया। उसे अस्पताल में भर्ती कराया।

सरौरा गांव निवासी तेजपाल के बेटे हरिशंकर व बिट्टू सोमवार सुबह लगभग छह बजे खेत में गन्ने की फसल बंधाई करने गए थे। खेत के चारों ओर जंगली जानवरों से फसल को बचाने के लिए लोहे के तार बंधे हुए हैं, जिनमें रात के समय कभी-कभी बिजली का करंट छोड़ देते थे। दोनों भाई सुबह जब खेत में घुसे तो 17 वर्षीय हरिशंकर का पैर तार में लग गया, जिससे वह विद्युत करंट की चपेट में आकर गंभीर रूप से झुलस गया और तार पर गिर गया। भाई को बचाने के लिए बड़े भाई बिटटू ने उसका हाथ पकड़कर खींचना चाहा तो वह भी करंट लगने से झुलस गया और बेहोश होकर एक ओर गिर गया।

बिटटू की चीख सुनकर खेतों से किसान मौके पर पहुंचे और तारों में लगा बिजली का तार हटाया और तारों से हरिशंकर को भी अलग किया, लेकिन तब तक हरिशंकर की मौत हो चुकी थी। घायल बिटटू को उपचार के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया। हरिशंकर के पिता तेजपाल ने थाने पर तहरीर दी है।

एसओ हेमेंद्र बालियान ने बताया कि तेजपाल की तहरीर पर मुकदमा दर्ज कर लिया है। तार हटाना भूल गए और चली गई बेटे की जान

तेजपाल ने बताया कि जंगली जानवरों से फसल बचाने के लिए वे नलकूप की विद्युत लाइन से खेत में बंधे तारों में रात के समय करंट छोड़ देते थे। सोमवार को वे तार हटाना भूल गए और यह हादसा हो गया। हरिशंकर किसान इंटर कालेज गोटका सरधना मेरठ में कक्षा 12 का छात्र था। हादसे के बाद हरिशंकर के घर में कोहराम मचा है। उसकी मां कमलेश, पिता तेजपाल, दादी लक्ष्मी, दादा रमेश का रो रोकर बुरा हाल है।

=>
LIVE TV