सरयू और राप्ती नदी का जलस्तर तबाही मचाने की ओर-कटइलवा और संगम तट पर नदी की उफनाई धारा…

सरयू और राप्ती नदी एकबार फिर तबाही मचाने की ओर बढ़ रही है। कपरवार संगम तट, कटइलवा, राजपुर में सरयू नदी उफना गई है। भदिला प्रथम और विशुनपुर देवार के टोलों में पानी घुसने लगा है। परसिया देवार के साधु के मड़ई से पुल तक अप्रोच मार्ग कटकर जलमग्न हो गया है। नगर के पटेल नगर, केवटलिया, रगरगंज में बाढ़ का पानी घुसने से मोहल्ले के लोगों की दुश्वारियां बढ़ गई है।

थानाघाट पर बने गेज के अनुसार सरयू नदी खतरे के निशान 66.50 मीटर से ऊपर 67.70 मीटर पर प्रवाहित हो रही है। नदी खतरे के निशान से डेढ़ मीटर ऊपर बह रही है। गत चौबीस घंटे में 10 सेंटीमीटर की वृद्धि हुई है। बढ़ते जलस्तर के साथ कपरवार संगम तट पर नदी की धारा दबाव बनाए हुए है। एसडीएम सुनील सिंह ने बताया कि संवेदनशील स्थलों का निरीक्षण किया गया है। नदी पार के देवार के जानवर, पशु मुसीबत में

सरयू नदी पार के परसिया देवार, विशुनपुर देवार, विदटोलिया का बड़ा भूभाग है। इस क्षेत्र में हिरण, जंगली सुअर, नीलगाय सहित अनेक पशु, पक्षी रहते है। लगातार बाढ़ का पानी इस क्षेत्र में होने से इन जानवरों, पशुओं के लिए मुसीबत हो गया है। यहां के हिरण, जंगली सुअर आबादी अथवा बाढ़ के पानी से खाली स्थानों की ओर भाग कर आ रहे हैं। गत पखवारे बेलडाड़ में नदी में बहते जा रहे हिरण को ग्रामीणों ने बचाया था। शुक्रवार को बरहज नगर केवटलिया मोहल्ले में हिरण को श्रवण पांडेय ने बचाकर वन विभाग को सौंपा। गांवों में जंगली सुवरों के आने से लोग दहशत में हैं। वन क्षेत्रीय अधिकारी राणा प्रताप सिंह ने बताया कि बाढ़ से नदी पार का मैदानी हिस्सा जलमग्न होने से यहां रहने वाले जानवर मैदानी क्षेत्र में आ जाते हैं।

जलस्तर घटने से बढ़ रही कटान

रुद्रपुर: पिड़रा के समीप गोर्रा 70.00 मीटर और राप्ती गेज प्वाइंट भेड़ी के समीप 69.65 मीटर पर प्रवाहित हो रही थी। दोनो नदियों का डेंजर लेवल 70.50 मीटर है। जलस्तर कम होने से कटान होने की संभावना बढ़ गई है।

=>
LIVE TV