शूटिग रेंज पर फिर से शुरू हुआ अभ्यास, निशानेबाजों के हाथ सैनिटाइज कराने के बाद रेंज में दिया प्रवेश

कोरोना के चलते मार्च के आखिरी सप्ताह में बंद हुई जौहड़ी गांव की बीपी सिंहल शूटिग रेंज पर करीब साढ़े चार माह बाद गुरुवार से फिर अभ्यास शुरू हो गया। एहतियातन निशानेबाजों के हाथ सैनिटाइज कराने के बाद रेंज में प्रवेश दिया गया। उन्हें कोरोना से बचाव की जानकारी भी दी गई।

जौहड़ी रायफल क्लब के संस्थापक व अंतरराष्ट्रीय शूटिग कोच डा. राजपाल सिंह ने बताया कि कोरोना वायरस से बचाव के मद्देनजर मार्च में शूटिग रेंज बंद कर दी गई थी। इसके बाद निशानेबाज अक्षिता, मानवी, डोली, तनु, दीपांशु कौशिक, चिराग जैन, आरजू, अदिति अपने घर पर ही अभ्यास कर रहे थे। गुरुवार को शूटिग रेंज को खोल दिया गया। यहां मास्क लगाकर पहुंचे निशानेबाजों के हाथ सैनिटाइज कराए। कोच मनोज चिकारा ने शारीरिक दूरी के नियमों के साथ उन्हें अभ्यास शुरू कराया। डा. राजपाल सिंह ने बताया कि अभ्यास से पहले निशानेबाजों को रोजाना करीब आधा घंटा कोरोना से बचाव की जानकारी दी जाएगी।

आइटीबीपी के केंद्रीय विद्यालय में हो सकेंगे दाखिले

डा. राजपाल सिंह ने बताया कि भारत-तिब्बत सीमा पुलिस के महानिदेशक देशपाल ने पिछले दिनों उनसे संपर्क कर बताया था कि आइटीबीपी का द्वारिका दिल्ली में केंद्रीय विद्यालय है, जो कक्षा 12 तक है। निशानेबाजी के ट्रायल के आधार पर उक्त स्कूल में बच्चों का दाखिला हो सकता है। इसके लिए वह 10 से 14 साल के बालक-बालिकाओं को रेंज पर अभ्यास करा रहे हैं। दाखिला होने के बाद वहां पढ़ाई, आवास आदि की भी मुफ्त व्यवस्था होगी।

=>
LIVE TV