वीडियो वायरल होने के बाद फंस गए भाजपा नेता और पूर्व मंत्री, 17 और लोगों पर भी कार्रवाई

गुजरात में लगातार बढ़ रहे कोरोनावायरस के मामलों पर राज्य सरकार सख्त कदम उठा रही है. वहीं भाजपा के ही एक नेता ने कोरोनावायरस संक्रमण को लेकर जारी प्रोटोकॉल की धज्जियां उड़ा दी. संक्रमण को कम करने के लिए सरकार ने जहां नाइट कर्फ्यू लगा रखी है, वहीं पूर्व मंत्री कांति गामित की पोती की सगाई में 6 हजार से ज्यादा लोग इकट्ठे हो गये. इस दौरान न तो सोशल डिस्टैंसिंग का पालन किया गया और न ही अन्य प्रोटोकॉल का. लोगों ने जमकर गरबा खेला.

इस आयोजन का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है. पुलिस ने मामले की गंभीरता को समझते हुए पूर्व मंत्री को पूछताछ के लिए तलब किया है. वहीं राज्य के गृहमंत्री प्रदीप सिंह जडेजा ने वीडियो की सत्यता की जांच के आदेश दे दिये हैं. बता दें कि गुजरात के तापी जिले के डोसवाडा गांव में भाजपा नेता गामित की पोती की सगाई का आयोजन किया गया था. वायरस वीडियो इसी आयोजन का बताया जा रहा है.

मीडियो रिपोर्ट्स में दावा किया जा रहा है कि गामित की पोती की सगाई में भारी संख्या में लोग जमा हुए थे. हजारों की संख्या में जमा लोगों ने सोशल डिस्टैंसिंग की धज्जियां उड़ाते हुए गरबा खेला. इस पूरे मामले का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस हरकत में आई है और सूरज रेंज के आईजी राजकुमार पांडियन के आदेश के बाद तापी के एसपी ने शिकायत दर्ज कर मामले की जांच के आदेश दिये हैं.

एक वीडियो में बीजेपी नेता गामित ने बताया, ‘मेरी पोती की सगाई थी. लगभग 2000 मेहमानों के लिए इंतजाम किया गया. लोगों को वॉट्सऐप के जरिए जानकारी मिली और वे शामिल हो गए. उन्होंने कहा कि पूरा गांव आदिवासी इलाके में आता है. हमने तो कम ही बुलाए, लेकिन लोग आते गए, हम मना कैसे करते.’ हालांकि, मामले की गंभीरता को देखते हुए प्रशासन भी सख्त हो गया है. इस दौरान गामत ने अपनी गलती स्वीकार की है। मंगलवार को पुलिस ने पूर्व मंत्री को पूछताछ के लिए बुलाया. राज्य के गृहमंत्री प्रदीप सिंह जडेजा ने वीडियो की जांच के आदेश दिए हैं.

वहीं कांग्रेस के प्रवक्ता मनीष दोशी ने एक वीडियो शेयर कर इस आयोजन पर सवाल उठाये हैं दोशी ने कहा है कि क्या सभी नियम केवल आम लोगों के लिए ही है. बीजेपी नेताओं पर कोई नियम लागू होता है या नहीं. कांग्रेस के संयोजक सरल पटेल ने भी मामले का वीडियो अपने ट्वीटर हैंडल पर शेयर किया है. वीडियो शेयर करते हुए उन्होंने लिखा, ‘गुजरात में कोविड-19 के दिशा-निर्देश, नियम, कानून और कर्फ्यू बीजेपी नेताओं पर लागू नहीं होते हैं. आप जो वीडियो देख रहे हैं यह बीजेपी के पूर्व मंत्री कांति गामित की पोती की शादी से पहले के जश्न का है. यह तब हुआ जब गुजरात में मामले तेजी से बढ़ रहे हैं.’

उन्होंने लिखा, ‘गुजरात में कोविड-19 के दिशानिर्देश, नियम, कानून और कर्फ्यू बीजेपी नेताओं पर लागू नहीं होते हैं. आप जो वीडियो नीचे देख रहे हैं यह बीजेपी के पूर्व मंत्री कांति गामित की पोती की शादी से पहले के जश्न का है. यह तब हुआ जब गुजरात में मामले तेजी से बढ़ रहे हैं.’

=>
LIVE TV