‘रॉ एजेंट’ की गिरफ्तारी पर भारत-पाकिस्तान में तनातनी

high-commission-of-india-islamabad-pakistan_landscape_1458934823एजेन्सी/बलूचिस्तान में एक कथित रॉ एजेंट की गिरफ्तारी के बाद पाकिस्तान और भारत के बीच कूटनीतिक बयानबाजियों का दौर तेज हो गया है।

पाकिस्तान के विदेश सचिव ने इस मामले पर भारतीय उच्चायुक्त को तलब कर उनके सामने गंभीर आपत्ति जताई है। वहीं भारत की ओर से कहा गया है कि गिरफ्तार शख्स से उसका कोई लेना-देना नहीं है। जिस शख्स को गिरफ्तार किया गया है उसने भारतीय नौसेना से रिटायरमेंट ले लिया है। इसके बाद से नौसेना से उसका कोई संपर्क नहीं रहा है।

भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ के कथित एजेंट की अवैध गतिविधियों को लेकर पाकिस्तान ने अपनी नाराजगी जाहिर करने के लिए शुक्रवार को भारतीय उच्चायुक्त गौतम बंबावले को तलब किया।

पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय के बयान में कहा गया है कि विदेश सचिव ने आज भारतीय उच्चायुक्त को तलब कर उनसे एक रॉ अधिकारी के पाकिस्तान में ग़ैरक़ानूनी ढंग से घुसने और बलूचिस्तान और कराची में उसकी विध्वंसकारी गतिविधियों पर विरोध और गहरी चिंता जताई है।

इससे पहले बलूचिस्तान के गृहमंत्री मीर सरफराज बुगती ने बृहस्पतिवार को दावा किया था कि जिस कथित रॉ एजेंट की गिरफ्तारी की गई है उसका नाम कुलयादव भूषण है और वह भारतीय नौसेना का कमांडर रैंक का अधिकारी है। उन्होंने दावा किया कि भूषण बलूच अलगाववादियों और आतंकियों के संपर्क में था।भूषण को बलूचिस्तान के चमन इलाके से गिरफ्तार किया गया। लेकिन शुक्रवार को पाकिस्तान के इस दावे का भारत ने पुरजोर खंडन किया। भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने दावों का खंडन करते हुए कहा कि जिस शख्स को गिरफ्तार किया गया है उसका भारतीय नौसेना से कोई संबंध नहीं है।

भारत की किसी भी देश के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने में कोई रुचि नहीं है और वह दृढ़ता से यक़ीन रखता है कि पाकिस्तान में स्थिरता और शांति क्षेत्र के हित में है। स्वरूप ने कहा पाकिस्तान में भारतीय दूतावास के अधिकारियों ने पकड़े गए शख्स से मुलाकात की इजाजत मांगी है ताकि पाकिस्तानी दावे की सच्चाई जांची जा सके।

गौरतलब है कि पाकिस्तान बलूचिस्तान और कराची में हिंसा फैलाने के लिए हमेशा भारत को जिम्मेदार ठहराता रहा है, लेकिन यह पहली बार है जब उसने यहां से किसी रॉ एजेंट को गिरफ्तार करने का दावा किया है। हालांकि भारत ने हमेशा इन दावों को खारिज किया है।  

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने कहा कि भारत का किसी भी देश के आंतरिक मामलों में हस्तक्षेप करने में कोई रुचि नहीं है और वह दृढ़ता से यक़ीन रखता है कि पाकिस्तान में स्थिरता और शांति क्षेत्र के हित में है। 

दूसरी ओर बलूचिस्तान के गृह मंत्री सरफराज बुगती ने कहा कि गिरफ्तार शख्स बलूच अलगाववादियों और आतंकियों के संपर्क में था। उसका बलूचिस्तान और कराची में अशांति फैलाने का इरादा था।

=>
LIVE TV