रिश्तों में तनाव ला रही है नौकरी

relationship_landscape_1458024054एजेन्सी/ऑफिस में हर हफ्ते घंटो बिता रहे हैं। काम के दबाव तो होता ही है साथ ही अगर छोटी-छोटी बातों पर टोकने वाला बॉस और खुराफाती सहकर्मीयों के साथ पूरा-पूरा दिन बिताना आसान बात नहीं है। इसके चलते घर जाकर भी आप बातों से पीछा नहीं छुड़ा पाते हैं अपने पार्टनर से शेयर करते हैं। जिससे आप अपने निजी रिश्ते खराब कर लेते हैं। 

एक शोध के मुताबिक हम अपना सबसे ज्यादा समय सोमवार से शुक्रवार तक ऑफिस में बिताते हैं। ये लाजिमी हैं कि इन बातों के अपने पार्टनर से साझा करते हैं जिससे धीरे-धीरे उन पर इसका गलत असर पड़ता है। कई बार ये सब इतना गंभीर होता है जिससे शादी टूटने की नौबत आ जाती है।नौकरी करना जरुरी है और रिश्तों को भी साथ लेकर चलना है। ऐसे में ये जानना जरुरी हो जाता है कि कहीं आप भी अनजाने में कुछ ऐसा ही ना कर रहे हों। क्या आप भी ऐसा करते हैं?

क्या ऑफिस के काम को अपने रिश्तों से ऊपर रखते हैं। दोस्तों से मिलना, अपने साथी के साथ फिल्म देखने जैसे प्लान को सिर्फ वजह से कैंसिल कर देते हैं क्योंकि ऑफिस का काम को पहले करना है आपको।

क्या काम से इतना थक जाते हैं कि समय नहीं निकाल पाते हैं किसी और काम के लिए? फिर चाहे वो घूमना हो या फिर किसी से मिलना हो।आपकी पत्नी या आपका पार्टनर करियर थेरेपिस्ट के किरदार में आ चुका है और आप हर छोटी बात के लिए उससे सलाह लेते हैं तो आपको सावधान हो जाना चाहिए, ये उस रिश्ते के लिए धीरे-धीरे ही सही नुकसान कर सकता है। 

क्या आप ऑफिस का तनाव घर लेकर आ रहे हैं और साथी से बात-बात पर बहस कर रहें हैं क्योंकि मूड पहले से खराब था तो ये खतरनाक हो सकता है आपके रिश्तों के लिए।

लोगों के साथ समय बिताना आपको पंसद नहीं आता है। क्योंकि काम से इतना थक जाते हैं बचे हुए समय में आराम करना जरुरी लगता है।

=>
LIVE TV