भारत के हिंदू देवता की मूर्ति अमेरिका ने लौटाई

statue_landscape_1459246836एजेन्सी/अमेरिका के एक म्यूज़ियम ने दक्षिण पूर्वी एशियाई देश कंबोडिया को एक हिंदू देवता की प्राचीन मूर्ति लौटा दी है। ये मूर्ति पहले चोरी हो गई थी। डेनवर आर्ट म्यूज़ियम के अधिकारियों ने कंबोडिया सरकार को राजधानी नॉम पेन में हुए एक समारोह में यह मूर्ति लौटाई। ‘टोरसो ऑफ राम’ नाम की बिना सिर वाली यह रेतीले पत्थर की मूर्ति 10वीं सदी की है।

इसे 1970 के दशक में कंबोडिया के गृहयुद्ध के दौरान कोह केर मंदिर से चुराया गया था। म्यूज‌ियम को यह मूर्ति 30 साल पहले मिली थी। मूर्ति के चोरी होने का अंदाजा तब हुआ, जब हाल ही में कंबोडिया से म्यूज‌ियम के अधिकारियों की बातचीत हुई।

158 मीटर की इस मूर्ति का सिर और शरीर के दूसरे हिस्से गायब हैं। कंबोडिया ने म्यूज‌ियम और कला संग्राहक से इसके बाकी गायब हिस्से भी वापस मांगे हैं।

us_landscape_14592470241986 में मिली मूर्ति

डेनवर आर्ट म्यूज‌ियम ने कहा कि उसे यह मूर्ति 1986 में न्यूयॉर्क गैलरी से मिली थी। समाचार पत्र डेनवर पोस्ट से उन्होंने कहा था कि उन्हें लगा था कि यह मूर्ति चोरी की हो सकती है, जब कंबोडिया सरकार ने इस कलाकृति की पहचान की।

पिछले साल कंबोडिया सरकार ने म्यूज़ियम से संपर्क किया और अतिरिक्त तथ्य मुहैया कराए। इसके बाद मूर्ति की वापसी की प्रक्रिया शुरू हुई। जनवरी में एक फ्रांसीसी म्यूज‌ियम ने 130 साल बाद कंबोडिया को 7वीं सदी में बनी हिंदू मूर्ति का सिर वापस किया था।

=>
LIVE TV