जानें कैसे पहचाने पैनिक अटैक के लक्षण और उपाय

चानक से डर जाना, बॉडी फ्रीज़ हो जाना, लंबे समय तक टेंशन रहना या अधिक असहज होने की सिचुएशन को पैनिक अटैक कहा जाता है। एक्सपर्टे का कहना है कि जब हमारी बॉडी फाइट ओर फ्लाइट मोड में चली जाती है तब पैनिक अटैक आता है। इस अटैक में पेशेंट को बैचैनी और कुछ बुरा होने जैसे महसूस होता है।

जानें कैसे पहचाने पैनिक अटैक के लक्षण और उपाय

इसका असर कभी हल्का होता है तो कभी यह पैनिक डिसॉर्डर या सोशल फोबिया के रूप में सामने आता है, जो एंग्जाइटी डिसॉर्डर का ही एक रूप है। ऐसा माना जाता है कि यह अटैक 15 सेकेंड से लेकर 1 घंटे तक रहता है।

कैसे पहचाने पैनिक अटैक के लक्षण ?

पैनिक अटैक के लक्षण हर बार एक तरह के नही होते है, वो अचानक से सामने आते हैं। ये हर इंसान में अलग-अलग होते हैं। हालांकि पैनिक अटैक खतरनाक नहीं होता और यह सिर्फ 10-15 मिनट तक का ही होता है।

भारतीय जनता पार्टी सरकारी तंत्र का कर रही दुरुपयोग: मायावती

  • अपना आपा खो देना
  • सांस लेने में दिक्कत
  • दिल की धड़कने तेज होना
  • गला दबा हुआ महसूस होना
  • बेहोशी महसूस करना
  • हाथों-पैरों की उंगलियां सुन्न होना
  • हाथों-पैरों से पसीना छूटना
  • दांतों का कटकटाना
  • कानों में घंटियां-सी बजना
  • सिर में हल्कापन महसूस होना
  • बेहोशी या किसी बुरी घटना का अहसास

World Family Day : परिवार जैसी अनमोल नेमत से दुनिया को रुबरु कराता यह दिन

अगर आप को ऊपर दिए गए लक्षण दिखाए दें तो समझ जाए कि आप बी पैनिक अटैक का शिकार हुए है। पैनिक अटैक की एक खासियत है ये कभी भी और कही भी आ सकता है। हो सकता है आप रात में सो रहें हो तब या फिर आप कही बाहर हो। लेकिन ऐसी सिचुएशन में आपको घराने की ज़रूरत नही है क्योंकि इस अटैक का असर ज्यादा से ज्यादा 10-15 तक का हॉट है, इसके बाद सब समान्य हो जाता है।

माना ये इतना खतनाक नही है लेकिन इसको नज़र भी नही करना चाहिए। कभी भी ऐसी सिचुएशन सामने आए तो घबराएं नही बल्कि मरीज को शांत करने की कोशिश करें।

=>
LIVE TV