पूर्व भारतीय ओपनर गौतम गंभीर ने कहा-अपना पूरा करियर इस खिलाड़ी ने सचिन तेंदुलकर की परछाई में खेलते हुए निकाला….

भारतीय टीम के पूर्व दिग्गज क्रिकेटर गौतम गंभीर ने ने पिछले कुछ हफ्तों में एक चैट शो में विभिन्न खिलाड़ियों और विषयों के बारे में अपने विचार और राय साझा की। इस बार गंभीर ने भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और बल्लेबाज राहुल द्रविड़ के देश के क्रिकेट पर प्रभाव के बारे में बताया। गंभीर ने कहा है कि राहुल द्रविड़ ने सचिन के साथ अपने करियर के लगभग सभी मैच खेले हैं, लेकिन उनका प्रभाव एक जैसा रहा है।

टेस्ट क्रिकेट की दीवार कहे जाने वाले राहुल द्रविड़ को बतौर कप्तानी सराहने वाले गौतम गंभीर ने स्टार स्पोर्ट के शो क्रिकेट कनेक्टेड में उनके क्रिकेटिंग करियर की भी तारीफ की। उन्होंने कहा, “अगर आप राहुल द्रविड़ को एक क्रिकेटर के रूप में देखते हैं, तो मुझे लगता है कि अगर आपने उनसे टेस्ट क्रिकेट में ओपनिंग करने के लिए कहा होता तो वे करते। उन्होंने नंबर 3 पर बल्लेबाजी की और विकेट पर जमे रहने का काम किया।”

गंभीर ने कहा, “द्रविड़ ने मैच फिनिशर के रूप में बल्लेबाजी की, उन्होंने सब कुछ देखा। भारतीय क्रिकेट ने उनसे जो कहा या कप्तान के तौर पर उनसे जो पूछा गया उन्होंने वो किया। आप चाहते हैं कि वे किस तरह के रोल मॉडल हैं। मेरे करियर पर मुझे लगता है कि उनका बड़ा प्रभाव पड़ा है। सौरव गांगुली ने हमेशा अपने तेजतर्रार प्रदर्शन के कारण सफेद गेंद के क्रिकेट में बड़ा प्रभाव डाला है, लेकिन भारतीय क्रिकेट में राहुल द्रविड़ ने बहुत अधिक प्रभाव डाला, जो शायद किसी ने भी देखा हो।”

6 वनडे मैचों में देश की वनडे टीम की कप्तानी करने वाले गौतम गंभीर ने कहा है, “आप वास्तव में सचिन तेंदुलकर जैसे किसी व्यक्ति के साथ उनके प्रभाव का मिलान कर सकते हैं, क्योंकि उन्होंने जीवन भर सचिन तेंदुलकर की परछाई में खेला। यहां तक दोनों का प्रभाव एक जैसा रहा।” गंभीर के कहने के मायने ये थे कि जब मैदान पर सचिन तेंदुलकर होते तो दूसरा कोई खिलाड़ी उनको डोमिनेट नहीं कर सकता था। यही भारत के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ के साथ हुआ।

=>
LIVE TV