जानिए चंद्रयान-2 ने पार की अग्निपरीक्षा , 29 दिन बाद चांद की कक्षा में …

भारत के दूसरे चंद्रयान-2 ने अपनी एक नई मिशल छोड़ दी हैं। बतादें की यह गर्व की बात हैं की मंगलयान के बाद चंद्रयान-2 ने भी अपनी अग्निपरीक्षा पार कर ली हैं। वहीं चंद्रयान -2 को चांद की कक्षा में प्रवेश कराना वैज्ञानिकों के लिए बेहद कड़ी चुनौती थी।

 

 

 

देखा जाये तो चंद्रयान-2 को चांद की कक्षा में प्रवेश कराना वैज्ञानिकों के लिए बेहद कड़ी चुनौती थी। भारतीय अंतरिक्ष एजेंसी इसरो के अध्यक्ष के सिवनइसे लेकर आज सुबह 11 बजे प्रेस कांफ्रेंस करेंगे।

हापुड़ में खेत से अज्ञात युवक का शव मिलने से इलाके में सनसनी

जहां इससे पहले सोमवार को सिवन ने बताया था कि चांद की कक्षा में आने के बाद से चंद्रयान-2 चांद की चार कक्षाओं से होकर गुजरेगा, जिसके बाद यह चांद की अंतिम कक्षा में दक्षिणी ध्रुव पर करीब 100 किमी ऊपर से गुजरेगा। इसी दौरान यानी दो सितंबर को यान का विक्रम लैंडर ऑर्बिटर से अलग हो जाएगा। विक्रम चार दिन तक 30 गुणा 100 किमी के दायरे में चांद का चक्कर लगाएगा। इसके बाद यह चांद के दक्षिणी ध्रुव में सतह पर सात सितंबर को अपना कदम रखेगा।

दरअसल 22 जुलाई को लॉन्च हुए इस मिशन ने इससे पहले 23 दिन पृथ्वी के चक्कर लगाए थे। फिर चंद्रमा की कक्षा में पहुंचने में इसे 6 दिन लगे। चांद की कक्षा में पहुंचने के बाद यान 13 दिन तक चक्कर लगाएगा।

4 दिन बाद यानी संभवत: 7 सितंबर को वह चांद की सतह पर पहले से निर्धारित जगह पर सॉफ्ट लैंडिंग करेगा। वैज्ञानिकों का मानना हैं की चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिंग इसरो के लिए इस मिशन की सबसे बड़ी चुनौती होगी, क्योंकि वहां हवा नहीं चलती और गुरुत्वाकर्षण बल भी हर जगह अलग-अलग होता है।

 

=>
LIVE TV