जानिए इस युवक को एक सॉफ्टवेयर ने पहुंचा दिया विदेश, क्लास 12वीं में किया ये चौकाने वाला काम…

सपने तो सब देखते हैं पर उन्हें सच कर दिखाने का जोश और जज्बा कुछ ही लोगों में होता है। यह तभी मुमकिन है जब मेहनत सच्चे दिल से की गई हो। मेरठ के शिवम शुक्ला ने इस तथ्य को सार्थक किया है। उन्होंने न केवल यूपी का नाम रोशन किया है बल्कि पूरे भारत को गोरांवित किया है।

 

युवक

 

 

बता दें की अमेरिका में स्थित Draper university ने शिवम के द्वारा बनाए गए सॉफ्टवेयर की गुणवक्ता को तो समझा ही साथ ही उसकी सरहायना भी की। वहीं अभी हाल ही में शिवम ने 12वीं परीक्षा को 70 फीसदी अंक लाकर उत्तीर्ण किया है।

जानिए चमकी नामक बुखार की चपेट में आने कारण और बचाव के तरीके

जहां उनके लिए 70 फीसदी अंक लाना बड़ी बात इसलिए भी है क्योंकि उनका ध्यान सिर्फ परीक्षाओं पर नहीं था, वे साथ में इस सॉफ्टवेयर पर भी अपना समय लगा रहे थे।

 

 

आइये जानते हैं शिवम् के बारे में –

1- सॉफ्टवेयर बनाने का ख्याल कैसे आया…?
मुझे बचपन से ही गाने का शौक था। नई–नई भाषाओं के गाने सुनना और उनकी प्रैक्टिस करना मुझे बेहद पसंद था। एक बार मेरा गला खराब हो गया। बहुत कोशिश करने के बाद भी मैं नहीं गा पाया।
जहां उसी वक्त मेरे दिमाग में एक सॉफ्टवेयर बनाने का आइडिया आया। मैं 10वीं कक्षा में था, जब मुझे ये आइडिया आया। चूंकि मेरे पापा-मम्मी बरेली रहते हैं इसलिए मैंने अपने मामा से मदद मांगी। उन्होंने मुझे हर वो चीज लाकर दी, जिसकी मुझे जरूरत थी।

2- ये सॉफ्टवेयर कैसे काम करता है?

स्क्रीन पर कुछ पंक्तियां दिखाई देंगी, जिन्हें आपको 1 से 2 मिनट के अंदर पढ़ना है। ऐसा करने पर आपकी आवाज उस सॉफ्टवेयर में रिकॉर्ड हो जाएगी। उसके बाद आप जो भी गाना अपनी आवाज में सुनना चाहें, उसे सर्च कर आप आनंद उठा सकते हैं।

3- आपकी भविष्य की योजनाएं क्या हैं?

 

दरअसल अभी मेरा पूरा ध्यान इस प्रतियोगिता में है। मैं सॉफ्टवेयर फील्ड में अपना करियर बनाना चाहता हूं।  शिवम ने बताया कि इस तरह के सॉफ्टवेयर चीन की कुछ कंपनियां करोड़ों-अरबों देकर बनवाती हैं। पर शिवम ने कुल एक लाख से भी कम में इस सॉफ्टवेयर को बनाकर दिखाया हैं।

=>
LIVE TV