खतरों के खिलाड़ी 9 में भारती सिंह को आया अस्थमा का अटैक, जाने इससे बचने के उपाए

सबके दिलों पर राज करने वाली इंडिया की स्‍टैंड-अप कॉमेडियन भारती सिंह को चेस्‍ट पेन के कारण हॉस्पिटल में भर्ती किया गया है। जी हां खतरों के खिलाड़ी 9 का हर एपिसोड और भी खतरनाक होता जा रहा रहा है। शो के लेटेस्ट एपिसोड में दौरान रोहित शेट्टी ने ऐसा टास्क दिया जिसके दौरान भारती सिंह की हालत खराब हो गई। इस टास्‍क के दौरान भारती सिंह को अस्‍थमा अटैक आ गया था।

खतरों के खिलाड़ी 9 के दौरान रोहित शेट्टी सभी कंटेस्टेंट को टास्क के बारे में बताते हैं और इसे ग्रुप में परफॉर्म करने के लिए कहते हैं। इसके लिए भारती और शमिता शेट्टी को कैप्टन बनाया जाता है। भारती पुनीत, रिद्धिमा और एली को चुनती हैं और शमिता की टीम में विकास, आदित्य और जैस्मिन में आते हैं। रोहित वॉर्निंग देते हैं कि जो टीम इस टास्क में हारेगी वो सीधा शो से एलिमिनेट हो जाएगी।

भारती इस टास्क के लिए पुनीत और एली तो वहीं शमिता, आदित्य और जैस्मिन को भेजती हैं। पुनीत और आदित्य टास्क को शानदार तरीके से पूरा करते हैं। वहीं जैस्मिन को इस टास्क के दौरान गर्दन पर चोट लग जाती है। इस राउंड में भारती की टीम को 20 प्वाइंट्स मिल जाते हैं।

वहीं अगले टास्क के लिए कंटेस्टेंट को हथकड़ी लगाकर एक एयरबैग में जाना पड़ता है. इस टास्क में पहले विकास और रिद्धिमा के बीट टक्कर होती है और विकास जीतते हैं। वहीं इसके बाद रोहित शमिता और भारती को टक्कर के लिए भेजते हैं। टास्क के दौरान ही भारती पैनिक हो जाती है और उन्हें अस्थमा अटैक आ जाता है। इस टास्क में शमिता की टीम को 10 प्वाइंट्स मिल जाते हैं। लेकिन अस्‍थमा अटैक  के दौरान हमें क्‍या करना चाहिए, आइए इस बारे में विस्‍तार से जानें।

अस्‍थमा

अस्‍थमा ऐसी बीमारी है जिसमें फेफड़ो तक सही मात्रा में आक्सीजन नहीं पंहुच पाता और सांस लेने में तकलीफ बढ़ जाती है। अस्थमा अटैक कभी भी कहीं भी हो सकता है। ये तब होता है जब धूल के कण आक्सीजन ले जाने वाली नलियों को बंद कर देते हैं, ऐसा ठंड या एक्सरसाइज से भी हो सकता है। अस्‍थमा अटैक रात को भी हो सकता है।

अस्थमा से बचाव के लिए आप और आपके आसपास वालों को आस्थमा से बचने के तरीकों का पता होना चाहिए। कभी-कभी आराम करने से या इन्हेलर की मदद से अस्थमा के अटैक से राहत मिल सकती है। इसलिए बचने के लिए जितनी जल्‍दी हो सके दवाइयों या इन्‍हेलर का प्रयोग किया जाना चाहिए। अस्थमा से बचने का बेहतर उपाय है कि उसके बारे में आपको पूरी जानकारी हो और जब उसका अटैक आये तो ऐसी परिस्थितियों में इंसान क्या कर सकता है और क्या करना चाहिए संबंधित सारी जानकारी होनी चाहिए। ऐसी सारी जानकारी और अस्‍थमा अटैक से बचने के टिप्‍स!

माधुरी दीक्षित का यह घरेलू नुस्‍खा अपनाकर पाएं ग्‍लोइंग और ऐजलेस स्किन

अस्‍थमा से बचने के टिप्‍स

  • घबराए नही, क्‍योंकि घबराने से मसल्‍स पर तनाव बढ़ता है जिससे की सांस लेने में परेशानी बढ़ सकती है।
  • हिम्मत न हारें और मुंह से सांस लेते रहें, फिर मुंह बंद करके नाक से सांस लें। धीरे-धीरे सांस अन्दर की तरफ लें और फिर बाहर की तरफ छोड़े।
  • सांस अन्दर की तरफ लेने और बाहर की तरफ छोड़ने के बीच में सांस न रोकें।
  • अगर हो सके तो इन्हेलर का प्रयोग करें और कोशिश करें हर 20 मिनट पर दो बार इन्हेलेर का प्रयोग करें।
  • धुंए व धूल से दूर रहें। अगर आपको सांस लेने में परेशानी बढ़ती जा रही है तो तुरंत धूल वाली जगह से दूर हट कर खड़े हो जायें।
  • डाक्टर के द्वारा दिये गये निर्देशों का पालन करें अधिक परेशानी होने पर डॉक्‍टर से जल्‍दी से जल्‍दी संपर्क करें।
  • डाक्टर के द्वारा दी दवाएं समय पर लें। अगर दवाओं से भी आपकी परेशानी ठीक नहीं हो रही तो याद रखें कि यह मौका खुद की मदद करने का है।

=>
LIVE TV