कानपूर बिकरू काण्ड : यूपी पुलिस अधिकारियों के प्रशिक्षण पाठ्यक्रम में शामिल होगा कानपूर के विकास दुबे केस

उत्तर प्रदेश राज्य जुलाई के महीने में बेहद चर्चा में आ गया था।कारण कानपूर का बिकरू काण्ड। चौबेपुर थाना क्षेत्र के बिकरू काण्ड को अब प्रदेश पुलिस के शीर्ष अधिकारी हमेशा अपने जेहन में रख सकेंगे ताकि भविष्य में ऐसी घटना पुलिवालों के साथ दुबारा न हो। प्रदेश सरकार ने इसको लेकर बड़ा इंतजाम किया है।

उत्तर प्रदेश में आईपीएस व पीपीएस अधिकारियों की ट्रेनिंग एवं पाठ्यक्रम को बेहतर बनाने के लिए गठित कमिटी ने प्रदेश शासन को सुझाव दिया है कि कानपूर के बिकरू काण्ड को पुलिस के अधिकारियों के पाठ्यक्रम में शामिल शामिल किया जाए। जिससे कि इस तरह के चर्चित केस में प्रशासन अग्रिम तैयारियों के साथ मुस्तैद रहें ताकि ऐसे मामलों की पुनरावृति न हो पाए। माना जा रहा है कि शासन की कमेटी के इस प्रस्ताव को सरकार शीघ्र लागू करने की योजना में हैं।

उत्तर प्रदेश के कानपूर जिले में हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे केस को पुलिस अकादमी तथा ट्रेनिंग सेंटर के पाठ्यक्रम में शामिल कर आईपीएस और पीपीएस अधिकारियों को पढ़ाया जाएगा। इसके साथ ही कानपुर के ज्योति हत्याकांड को भी किताबों के सिलेबस में शामिल किया जायेगा।

उल्लेखनीय है कि आईपीएस एवं पीपीएस अधिकारियों की ट्रेनिंग एवं पाठ्यक्रम को बेहतर बनाने के लिए एक कमेटी गठित की गयी थी,जिसने यह सुझाव सरकार को दिया है। इस सुझाव को शासन के पास मंजूरी के लिए भेजा गया है। जिसके बाद इसे नवंबर के अंत तक पाठ्यक्रम में शामिल किया जायेगा।

=>
LIVE TV