ऐसा क्या रहस्यमयी फैक्टर है 13 नंबर में कि मानते हैं सभी इसे मनहूस?

जब बात शुभ और अशुभ की होती है तो हम छोटी सी छोटी बातों पर ध्यान देते हैं. ऐसे में कुछ नंबर भी होते हैं जो अशुभ होते हैं. जिनमें से एक हैं 13 नंबर. आपके लिए ये जान लेना जरुरी है कि आखिर 13 नंबर इतना अशुभ क्यों माना जाता है. हो सकता है आपको कभी 13 नंबर मिल जाए. आपको बता दें कि पूरे विश्व में 13 नंबर को अच्छा नहीं माना जाता है. इसे एक मनहूस संख्या की तरह देखा जाता है. इसी वजह से इसे इस्तेमाल करने से पहले लोग कई बार सोचते हैं. यहां तक की लोग इस अंक को अपनी जुबान से भी नहीं पुकारते. हालांकि इसके पीछे कई मुख्य कारण हैं.

13 नंबर

खासतौर से पश्चिमी देशों में आपको इसका अच्छा खासा डर देखने को मिलेगा। वहां के लोगों के बीच 13 नंबर का जैसा भय का माहौल नजर आएगा आपको शायद ही कहीं ओर ऐसा नजर आए। लेकिन जब आप उनके इस डर की वजह जान लेंगे तो शायद  13 नंबर से आप भी परहेज करने लग जाएंगे। हमारा उद्देश्य आपको डराना नहीं बल्कि 13 नंबर से जुड़े कुछ रहस्यमयी फैक्टर से आपको रूबरू कराना है। इसी वजह से दुनिया में ऐसा माहौल तैयार हो गया है कि लोगों ने इस अंक से ही दूरी बनाना शुरू कर दिया है। ये फैक्टर आपको वाकयी सोचने पर मजबूर कर सकता है।

हत्या नहीं बल्कि आत्महत्या थी अनीता की मौत, झूठी साबित हुई सूडा निदेशक उमेश सिंह पर दर्ज FIR

थर्टीन डिजिट फोबिया
कुछ रिपोर्ट्स के मुताबिक 13 तारीख को इसलिए अशुभ माना जाता है क्योंकि एकबार यीशु मसीह के साथ एक ऐसे  शख्स ने विश्वासघात किया था जो उन्ही के साथ रात्रिभोज कर रहा था। वह शख्स 13 नंबर की कुर्सी पर बैठा हुआ था। बस तभी से लोगों ने इस अंक को दुर्भाग्यपूर्ण समझ लिया और उसके बाद से इस नंबर से दूर भागने लगे। मनोविज्ञान ने 13 अंक के इस डर को ट्रिस्काइडेकाफोबिया या थर्टीन डिजिट फोबिया नाम दिया है। डर इस हद तक बढ़ गया कि इसकी वजह से लोगों ने 13 नंबर का इस्तेमाल करना ही बंद कर दिया।

विदेश में 13 नंबर का डर
अगर आप फॉरेन ट्रिप पर गए हो और आपको किसी होटल में ठहरते वक्त 13 नंबर का कोई रूम या किसी इमारतम में 13वीं मंजिल न नजर आए तो समझ जाना होटल का मालिक 13 नंबर को अशुभ मानता है। आपको बहुत से लोग ऐसे भी दिख सकते हैं जो किसी होटल में 13 नंबर के रूम को लेना बिल्कुल पसंद नहीं करते। इसके अलावा आपको किसी बार या रेस्टोरेंट में 13 नंबर की खाने की टेबल नहीं दिखाई देगी। वहीं बात करें फ्रांस की तो यहां के लोगों का मानना है कि खाने की मेज पर 13 कुर्सियां होना अच्छा नहीं है।

कमालगंज के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रसूता से अस्पताल कर्मियों ने ठगे 1100 रूपये

भारत में 13 नंबर का असर
आपकी जानकारी के लिए बता दें 13 नंबर का यह डर न सिर्फ पश्चिमी देशों पर बल्कि भारत के लोगों पर भी सवार है। यहां भी बहुत से लोग इस अंक को अशुभ मानते हैं। आपको यह बात शायद ही मालूम हो कि सपनों के शहर कहे जाने वाले चंडीगढ़ देश का सबसे सुनियोजित शहर माना जाता है। यह पंडित जवाहरलाल नेहरू के सपनों का शहर हुआ करता था। लेकिन आप ये नहीं जानते होंगे कि इस सुनियोजित शहर में सेक्टर 13 नहीं है। दरअसल, इस शहर का नक्शा बनाने वाले आर्किटेक्ट ने 13 नंबर का सेक्टर ही नहीं बनाया। वह 13 नंबर को अशुभ मानता था। इस आर्किटेक्ट को इस शहर को डिजाइन करने के लिए विदेश से बुलवाया गया था।

अटल बिहारी वाजपेयी पर भी रहा 13 नंबर का असर
अटल बिहारी वाजपेयी के जीवन से भी 13 का गहरा संबंध रहा है। अगर आपको याद हो उनके प्रधानमंत्रित्व काल में उनकी सरकार पहली बार महज 13 दिन ही स्थिर रह सकी। इसके बाद फिर जब वाजपेयी के सामने दोबारा शपथ ग्रहण का मौका आया तो उन्होंने 13 तारीख को चुना। इसके बाद उनकी यह सरकार भी सिर्फ 13 महीने तक ही चली। पुन: वाजपेयी ने 13वीं लोकसभा के प्रधानमंत्री के रूप में, 13 दलों के सहयोग से 13 तारीख को ही शपथ ली, लेकिन फिर 13 को ही हार का सामना करना पड़ा। कई लोग इसे महज संयोग नहीं मानते। इटली के कई ओपरा हाउस में 13 नंबर के इस्तेमाल से बचा जाता है।

 

=>
LIVE TV