इमरजेंसी नंबर ‘112’ एक जनवरी से

देशभर में 1 जनवरी से इमरजेंसी नंबर ‘112’ शुरू हो जाएगी। इस नंबर की मदद से आपको पुलिस, एंबुलेंस या अग्मिशमन विभाग से सीधे सहायता मिल सकेगी। यह खबर एक वरिष्ठ सरकारी अधिकारी से मिली है।

इमरजेंसी नंबर ‘112’

इमरजेंसी नंबर ‘112’ किसकी तर्ज पर शुरू हुआ

दूरसंचार मंत्री रविशंकर प्रसाद ने सभी आपात सेवाओं के लिए एकल नंबर के प्रावधान को मंजूरी दे दी है। यह अमेरिका में सभी आपात सेवाओं के एक नंबर ‘911’ की तर्ज पर है।

इस नंबर की ख़ास बात यह है की यह सेवा उन सिम या लैंडलाइन पर भी उपलब्ध होगी जिनकी आउटगोइंग सुविधा रोक दी गई है। परेशानी में फंसा कोई भी व्यक्ति ‘112’ नंबर पर कॉल करेगा तो उसकी कॉल तुरन्त संबंधित विभाग को स्थानांतरित की जाएगी। इमरजेंसी नंबर के शुरू होने के बाद धीरे-धीरे अन्य सभी नंबर समाप्त कर दिए जायेंगे।

बहराल देश में पुलिस के लिए 100 नंबर डायल किया जाता है। फायरब्रिगेड के लिए 101 और एंबुलेंस के लिए 102 तथा आपात आपदा प्रबंधन के लिए 108 नंबर डायल करना होता है। अधिकारी के मुताबिक सभी दूरसंचार आपरेटरों को इमरजेंसी कॉल्स को 112 नंबर पर स्थानांतरित करने को कहा गया है।

मुसीबत में फसा कोई व्यक्ति एसएमएस के जरिये भी अपनी बात पंहुचा सकता है।. यह प्रणाली कॉलर के स्थान का पता लगा लेगी और उसे नजदीकी सहायता केंद्र से साझा करेगी।

इस 112 नंबर को पैनिक बटन प्रणाली में फीड किया जा सकता है। कानून के तहत पैनिक बटन सुविधा भी सभी मोबाइल फोनों पर एक जनवरी से उपलब्ध होगी। पैनिक बटन के जरिये व्यक्ति सिर्फ एक बटन दबाकर कई नंबरों पर इमरजेंसी कॉल कर सकेंगे या अलर्ट भेज सकेंगे।

=>
LIVE TV