आतंकियों को पनाह देना अब पाकिस्तान को ही पड़ रहा भारी

Husain-Haqqani_56fa480819fedएजेन्सी/वॉशिंगटन : आतंकी और आतंकवाद किसी के सगे नहीं होते। इस बात को खुद पाकिस्तान ने स्वीकारा है। लाहौर में हुए आतंकी हमले के बाद आतंकियों का समर्थन करने वाला पाकिस्तान भी इस बात से सहमति रखने लगा है। पाकिस्तान के पूर्व राजनयिक हुसैन हकनानी ने वॉशिंगटन में कहा कि कश्मीर में जिहादियों को समर्थन देना ही अब पाक को भारी पड़ रहा है। उन्होने अपने ही देश पर निशाना साधते हुए कहा कि अपनी नीति हम पर ही उल्टी पड़ रही है। बता दें कि हकनानी वॉशिंगटन में पाकिस्तान के राजनयिक है। एक इंटरव्यू के दौरान उन्होने कहा कि जिहादियों का समर्थन करना पाकिस्तान की नीति रही है, जिसका उद्देश्य भारत के जम्मू-कश्मीर और अफगानिस्तान में अपना अधिकार जमाना है। लेकिन अब पाक को उसकी यही नीति महंगी पड़ रही है। अब जिहादी शियाओं, अहमदियों और ईसाइयों को अपना निशाना बना रहे हैं। उन्होने कहा कि पाकिस्तान की चुनी हुई सरकार और सेना भारत और अफगानिस्तान में जिहादियों को संरक्षण दे रही है, जो अब पाक के लिए ही खतरा बन गए है। इस पर जल्द कोई निर्णय लेने की आवश्यकता है।

=>
LIVE TV