आतंकवाद के लिए न अपनाऐं दोहरा मानदंड

Foreign-Ministers_5715b9de71974एजेंसी/माॅस्को : आतंकवाद के लिए दोहरा मापदंड अपनाना सभी देशों के साथ एक बड़ा अंतर्राष्ट्रीय खतरा हो सकता है। आतंकवाद के लिए विश्व को एकजुट होना होगा। देश इसके विरूद्ध दोहरा मानदंड नहीं अपना सकता। केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि रूस-भारत और चीन के विदेश मंत्रियों की 14 वीं बैठक के दौरान इस तरह का बयान दिया। उल्लेखनीय है कि विदेश मंत्री इन दिनों माॅस्को में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय वार्ता में भागीदारी कर रही है।

विदेशमंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि यदि आतंकवाद के विरूद्ध विश्व समुदाय दोहरा मापदंड अपनाएगा तो यह उसी के खतरनाक हो सकता है। उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सुधार के मसले पर जल्द ही निर्णय लेना चाहिए। चीन और रूस से भी उन्होंने समर्थन देने की मांग की और कहा कि विश्व को आतंकवाद के मसले पर एक होना ही होगा।

भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि भारत, रूस और चीन का दृष्टिकोण एक जैसा ही है। उनके दृष्टिकोणों का समन्वय होने से लाभ भी मिल सकता है। केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने इस वर्ष गोवाल में अक्टूबर में आयोजित होने वाले ब्रिक्स सम्मेलन में सभी पक्षों से सक्रिय भागीदारी करने की अपील भी की। इस सम्मेलन में ब्राजील, रूस, भारत, चीन, दक्षिण अफ्रीका आदि शामिल हैं। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने रूस में एक भारतीय की हत्या और दुर्घटना में दो भारतीय छात्राओं की मौत का मसला भी उठाया।

=>
LIVE TV