आंकड़ों के खेल में पस्त हुई मुद्रा योजना

central-bank-of-iraq_landscape_1458335109एजेन्सी/कानपुर। 50 हजार से 10 लाख रुपये तक का लोन लेकर खुद का व्यवसाय शुरू करने या पहले से चालू व्यवसाय को समृद्ध करने के लिए केंद्र सरकार की ओर से शुरू की गई मुद्रा बैंक योजना बैंक अधिकारियों की आंकड़ेबाजी के आगे पस्त हो गई है। भारी भरकम आंकड़ों को देखकर लगता है कि बैंकों ने मुद्रा योजना के तहत खजाना लुटा दिया लेकिन हकीकत यह है कि इस योजना में सिर्फ 50 हजार रुपये तक के लोन ही अधिक दिए गए हैं। अमर उजाला अपनी पड़ताल में पहले ही बता चुका है कि योजना किस तरह से औद्योगिक शहर में दम तोड़ रही है।
तरुण श्रेणी में 70 का भी आंकड़ा पार नहीं
योजना के शुरू होने से अब तक इस श्रेणी में कोई भी बैंक 70 से अधिक का आंकड़ा पार नहीं कर सका। दरअसल पांच से 10 लाख रुपये तक के लोन देने से बैंक कतरा रहे हैं। जिले में 29 फरवरी तक सभी बैंकों ने कुल 240 लोगों को (14.49 करोड़ रुपये) ही तरुण श्रेणी में लोन दिया है। बैंकों का मानना है कि लोन की वसूली न होने की स्थिति में उनके पास एक्शन लेने का विकल्प नहीं है, क्योंकि लोन लेने वाले की गारंटी खुद सरकार ने ली है।

लोन के प्रकार                  शिशु                  किशोर                  तरुण
प्रमुख बैंक                 खाते     लोन         खाते      लोन        खाते      लोन
बैंक ऑफ बड़ौदा       3875        801      538      802         42        275     इलाहाबाद बैंक         1149        148       323      556         68        380
पंजाब नेशनल बैंक    603        146       128        86          18          67  
बैंक ऑफ इंडिया        519          98          78        69          19         88
आआरबी                   718          98          11        23            7          61
यूनियन बैंक              257        102       143       266         16        106
यूको बैंक                   368        129        112       204        49        315  
विजय बैंक                127          61             9          14          2            9.5
सिंडीकेट बैंक              94          21           53          48          0           0   
*(यह आंकड़ा 8 अप्रैल 2015 से 29 फरवरी 2016 तक का है। लोन लाख रुपये में।)

=>
LIVE TV