Tuesday , November 13 2018

शेयर बाजार में गिरावट की बड़ी वजह ‘ग्लोबल इंडीकेटर्स’ : हसमुख अधिया

नई दिल्ली। वित्त एवं राजस्व सचिव हसमुख अधिया का कहना है कि शेयर बाजार में भारी गिरावट की वजह दीर्घकालीन पूंजीगत लाभ (एलटीसीजी) कर लगाया जाना नहीं बल्कि वैश्विक संकेतक हैं। अधिया के मुताबिक, शेयरों से कमाई पर सिर्फ 10 फीसदी एलटीसीजी लगाया गया है, जिससे शेयरों में निवेश अभी भी आकर्षक बना हुआ है।

हसमुख अधिया

अधिया ने सोमवार को सीआईआई के एक कर्याक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि अन्य परिसंपत्तियों के मुकाबले शेयरों पर एलटीसीजी कर कम है।

यह भी पढ़ें:- भारती टेलीकॉम में सिंगटेल 2,649 करोड़ रुपये का निवेश करेगी

गौरतलब है कि केंद्रीय वित्त मंत्री अरुण जेटली ने एक फरवरी को आम बजट पेश करते हुए शेयरों से एक लाख रुपये से अधिक की कमाई पर 10 फीसदी एलटीसीजी कर लगाए जाने का ऐलान किया था। इससे सरकार को 20,000 करोड़ रुपये का राजस्व होने की उम्मीद है।

हालांकि, 31 जनवरी 2018 तक शेयरों से कमाई पर छूट दी जाएगी और शेयरों को एक साल तक रखने पर 15 फीसदी की दर से टैक्स लगाया जाएगा। बीएसई का सेंसेक्स सोमवार को 400 से अधिक अंकों की गिरावट के साथ खुला और 35,000 के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे फिसल गया।

यह भी पढ़ें:-जोधपुर : HC के न्यायाधीश के लिए ‘पद्मावत’ की विशेष स्क्रीनिंग, चप्पे-चप्पे पर तैनात पुलिस

एनएसई का सूचकांक निफ्टी भी 150 अंकों से अधिक की गिरावट पर खुला। बाजार विश्लषेकों का मानना है कि वैश्विक संकेतकों के साथ बैंकिंग, कैपिटल गुड्स, वाहन, तेल एवं गैस शेयरों में गिरावट से शेयर बाजार में गिरावट का रुख बना हुआ है।

=>
LIVE TV