पीएनबी धोखाधड़ी पर आरोप-प्रत्यारोप से नहीं निकलेगा कोई हल : नायडू

नई दिल्ली। उप राष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने गुरुवार को कहा कि सरकार और विपक्ष को पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) धोखाधड़ी मामले जैसे मसलों पर आरोप-प्रत्यारोप बंद कर देना जाहिए और इस बात पर रचनात्मक विमर्श करना चाहिए कि गलतियां कहां हो रही हैं।

पीएनबी धोखाधड़ी पर

कांफेडरेशन ऑफ रियल इस्टेट डेवलपर्स एसोसिएशन ऑफ इंडिया (क्रेडाई) सम्मेलन-2018 को संबोधित करते हुए नायडू ने कहा, “इस तरह की गलतियां ढूंढने का कोई मतलब नहीं है कि कोई कहे यह उनके कार्यकाल में हुआ हमारे में नहीं। और फिर दूसरा कहे कि यह आपके कार्यकाल में हुआ। इस तरह के आरोप-प्रत्यारोप से कोई फायदा नहीं है।”

उन्होंने कहा कि मुद्दा यह इसके शासन या उसके शासन का नहीं है बल्कि मसला यह कि लोगों का बैंकिंग प्रणाली से भरोसा उठ रहा है। उन्होंने आगे कहा, “मुझे उम्मीद है कि संसद चलती है तो सार्थक व रचनात्मक बहस होती है जिससे यह पता चल पाता है कि गलतियां कहां हो रही हैं।”

यह भी पढ़ें:- त्रिपुरा : माकपा विधायक दल के नेता चुने गए माणिक सरकार

पीएनबी में हुए 13,540 करोड़ रुपये के फर्जीवाड़े को लेकर संसद के काम-काज बाधित होने का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, “विडंबना है कि सांसद परिचर्चा करना चाहते हैं, सरकार परिचर्चा करना चाहती है और सदन के अध्यक्ष भी चर्चा करवाना चाहते हैं लेकिन परिचर्चा नहीं हो पा रही है।”

यह भी पढ़ें:- उपचुनाव परिणाम ने बदल दिया नेताओं का नजरिया, लालू ने कर दी बड़ी डिमांड

उपराष्ट्रपति ने संगठन को अनुशासन बनाए रखने की सलाह दी और कहा, “संगठन के अवश्य आचार नियम हों और जो कोई नियमों का उल्लंघन करता है उसे बाहर करना चाहिए।”

देखें वीडियो:-

=>
LIVE TV