भारत के इन राज्यों में जरा हटके मनाई जाती है दुर्गा पूजा

 दुर्गा पूजा भारत के सभी राज्यों में दुर्गा पूजा अलग-अलग तरीके से मनाई जाती है. इन सभी राज्यों में माँ दुर्गा पूजा  करने की अलग परम्परा और रिवाज है. आज हम आपको बताएंगे अलग-अलग राज्यों में दुर्गा पूजा कैसे मनाई जाती है.

यूपी और बिहार

यूपी और बिहार में दुर्गा पूजा एक ही तरीके से मनाई जाती है, क्योंकि बिहार और यूपी दोनों जगह ही अंतिम दिन कन्याओं को खाना खिलाया जाता है. यहां मंदिरों में देवी माँ कि झाकियां और पंडाल सजते है. लोग दूर-दूर से यहां घूमने और देवी के दर्शन करने आते है.

पश्चिम बंगाल और असम 

पश्चिम बंगाल में दुर्गा माँ की खूबसूरत मूर्तियों की स्थापना बड़े ही भव्यता के साथ करते है. यहां पर हर साल थीम बेस्ड सुंदर पंडाल बनाए जाते है. यहां के पंडित चार दिनों तक धार्मिक ग्रंथों के अनुसार अनुष्ठान करते है. गुवाहाटी की कामख्या देवी और कोलकाता के दक्षिणेश्वर काली मंदिर जरुर जाएं.

तमिलनाडु  

नवरात्र के अंतिम तीन दिनों में तमिल के लोग तीन देवी दुर्गा,सरस्वती और लक्ष्मी की पूजा करते हैं. तमिलनाडु की दुर्गा पूजा तो आपको मरुपंधल देवी मंदिर में अरलावीमाओजी, थिरुक्रकदु देवी करुमुरियम मंदिर और श्री सूर्यमंगलम बागुलूमि देवी मंदिर जाए.

महाराष्ट्र

मुंबई में जितने ही हर्षो-उल्लास के साथ श्री गणेश की पूजा की जाती है, उतने ही धूमधाम से यहां माँ दुर्गा की  भी पूजा की जाती है. यहां पर विवाहित महिलाएं एक-दूसरे के माथे पर हल्दी और कुमकुम का टीका लगाकर एक-दूसरे को बधाई देती है. अगर आप महाराष्ट्र घूमने जा रहे हैं तो आपको मुंबा देवी मंदिर, वज्रेश्वरी में वज्रेश्वरी देवी, मुंबई से 75 किलोमीटर दूर नासिक सप्तशृंगी में सप्तशृंगी देवी मंदिर के दर्शन करने जरुर जाएं.

गुजरात

गुजरात के लोग नवरात्रि में नौ दिन का उपवास रख कर और पारम्परिक तरीके से गरबा खेलकर नवरात्रि का त्योहार मनाते हैं. गुजरात के मिट्टी के दिये और बर्तन देखने लायक होते है. अगर आप नवरात्रि में गुजरात जाने का मन बना रहे है तो जरुर जाए और भावनगर जाकर अम्बा देवी के दर्शन करें.

कर्नाटक

दानव महिषासुर पर माँ दुर्गा की जीत को प्रदर्शित करने के लिए विजयनगर वंश ने नवरात्र कि परम्परा शुरू की थी. कर्नाटक के मैसूर पैलेस को विजय दशमी के दिन एक लाख से अधिक लाइटों के साथ एक शाही दुल्हन की तरह सजाया जाता है. यहां पर लोग दूर-दूर से गहनों से सजी हाथियों और जंबो सवारी नाम के भव्य दशहरा जुलूस के दर्शन के लिए आते है.

यह भी  पढ़ें ः टीवी की इस एक्ट्रेस ने कराया मेकओवर, सिजलिंग लुक ने इंटरनेट पर मचाया बवाल

आंध्रप्रदेश

आंध्रप्रदेश में अविवाहित लड़के लड़कियां अपनी पसंद के पति और पत्नी के लिए नवरात्र के इस सामूहिक पूजा में शामिल होती है. इस रिवाज को ‘बठुकम्मा पांडुगा’ कहा जाता है. यहां पर महिलाएं पूजा के लिए फूलों की ढेर बनती है और पूजा खत्म होने के बाद इस फूल को नदी या झील में डाल दिया जाता है. कर्नाटक के सिम्हाचलम में वराहा लक्ष्मी नरसिम्हा मंदिर,विजयवाड़ा में कनाका दुर्गा मंदिर और लेपक्षी में श्री वीरभद्र मंदिर घूमने जरुर जाएं.

हिमाचल प्रदेश

हिमाचल प्रदेश को देवी मंदिरों का घर कहा जाता है. यहां पर नवरात्र का बड़ा महत्व है. नवरात्र का त्योहार यहां पर तब शुरू होता है जब बाकी राज्यों में खत्म हो जाता है. यहां पर व्यास नदी के किनारे लकड़ी और घास को जलाने के साथ ही त्योहार को खत्म किया जाता है. कुल्लू घाटी के ढलपुर के मैदान में नौ दिन लंबे त्योहार को देखने जा सकते है.

 

 

 

 

=>
LIVE TV