Sunday , September 24 2017

सावधानी और सतर्कता से ही मिलेगी आपके ‘आधार’ को सुरक्षा, जरा सी लापरवाही लगवा देगी…

कालाधन और जमाखोरीनई दिल्ली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आधार पर जोर और उसके पंजीयन केंद्र खुलवाने के काम को जोर शोर से पलीता लगाने का काम जारी है। जिस मुहीम को कालाधन और जमाखोरी पर नकेल कसने के लिए शुरू किया गया था। आज वहीं देश की सबसे बड़ी धांधली और जमाखोरी का नया रास्ता बन गई है। इस कारनामें को अंजाम दे रहे हैं, प्राइवेट आधार पंजीकरण केंद्र जो आधार बनाने से लेकर उसके अपडेशन के काम के लिए मनमाने ढंग से पैसे वसूल कर रहे हैं। इस बात को यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) ने खुद माना है।

खबरों के मुताबिक़ यूनिक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) ने 49,000 आधार पंजीकरण केंद्रो को ब्लैक लिस्ट में डाल दिया है, जो लोगों से अवैध वसूली और कुछ सेवाओं के तय शुल्क से अधिक चार्ज कर रहे थे।

इन केंद्रों में ऐसे लोगों को चूना लगाया जा रहा था जो अपना आधार कार्ड बनवाना चाहते थे या करेक्शन करवाना चाहते हैं।

मामूली ठोकर पर सैन्य अधिकारी को सरेराह थप्पड़ जड़ने वाली महिला गिरफ्तार

आधार बहुत महत्वपूर्ण डॉक्युमेंट बन चुका है, ऐसे में यह सुनिश्चित करना चाहिए कि हम ऐसे ठगी के शिकार ना बनें। इस तरह के तत्व सुरक्षा के लिए भी चिंता उत्पन्न कर रहे हैं।

ऐसे में यदि आप अपने आधार की डीटेल्स में करेक्शन या फिर नए आधार के लिए अप्लाई करने के लिए किसी सेंटर में जा रहे हैं तो कुछ चीजों का ध्यान रखें।

आधार पंजीकरण के लिए कॉमन सर्विस सेंटर या स्थानीय पंजीकरण केंद्रों पर ही जाएं। यूआईडीएआई वेबसाइट के होमपेज पर आधार ऑनलाइन सर्विस के तहत ‘locate Enrolment and update centers’

यह आपको नए पेज पर ले जाएगा जहां आपको राज्य, शहर, जिला जैसी कुछ जानकारियां देनी होंगी। सभी कॉलम को भरने के बाद सर्च करने पर आपको पंजीकरण केंद्रों की पूरी लिस्ट मिल जाएगी साथ में यह भी बताया जाएगा कि कोई केंद्र स्थायी है या कैंप मोड में है।

नए आधार कार्ड के लिए कोई फीस नहीं है। आधार के वेबसाइट पर यह स्पष्ट किया गया है कि पंजीकरण पूरी तरह मुफ्त है। इसलिए आपको पंजीकरण केंद्र पर कोई फीस देने की जरूरत नहीं है।

ब्लैकलिस्ट किए गए केंद्र आधार कार्ड को प्लास्टिक कार्ड पर प्रिंटिंग के लिए 50 से 200 रुपये ले रहे थे। हालांकि स्मार्ट आधार कार्ड जैसी कोई चीज नहीं है।

यूआईडीएआई के मुताबिक यूआईडीएआई वेबसाइट से डाउनलोड किया गया आधार ही काफी है।

जम्मू में पाकिस्तान ने फिर किया संघर्षविराम का उल्लंघन

यूआईडीएआई वेबसाइट के मुताबिक यदि आप पंजीकरण केंद्र में जाकर अपना नाम, पता या बायॉमीट्रिक डेटा अपडेट करना चाहते हैं तो आपको सर्विस प्रोवाइडर को 25 रुपये देने होंगे। यदि यही काम आप ऑनलाइन करेंगे तो फीस देने की जरूरत नहीं है।

डेट ऑफ बर्थ, नाम, पता, ईमेल आईडी, मोबाइल नंबर आदि आप ऑनलाइन अपडेट कर सकते हैं। चूंकि इन सेवाओं की पुष्टि के लिए ओटीपी जरूरी है, इसलिए मोबाइल नंबर का आधार से लिंक होना जरूरी है।

यदि आपका आधार कोर्ड खो जाए तो आप इसे दोबारा डाउनलोड कर सकते हैं। यूआईडीएआई की वेबसाइट: https://eaadhaar.uidai.gov.in पर यह सेवा मुफ्त उपलब्ध है।

यदि आपने आधार के लिए अप्लाई करते समय अपना मोबाइल नंबर दिया है, तो रिजेक्ट होने पर इसकी जानकारी एसएमएस से दी जाती है।

यूआईडीएआई वेबसाइट के मुताबिक आधार जेनरेट करने से पहले कई जांच की जाती है, इसलिए ऐसा संभव है कि तकनीकि वजहों से आपका आधार रिजेक्ट हो जाए। इसलिए यदि आपका एप्लीकेशन रद्द हो जाए तो दोबारा पंजीकरण कराएं।

यदि आपको आधार सेंटर पर गतिविधियों पर शक हो या वहां के अधिकारी आपसे अधिक चार्ज वसूल रहे हों तो आप इस तरह यूआईडीएआई के संज्ञान में ला सकते हैं। इसके लिए आप help@uidai.gov.in पर ईमेल के जरिए आप सूचना साझा सकते हैं।

यदि आपको प्रोटोकॉल या एप्लीकेशन फीस की जानकारी ना हो तो यूआईडीएआई हेल्पलाइन 1947 पर कॉल कर सकते हैं।

देखें वीडियो :-

=>
LIVE TV