सुबह बिस्तर छोड़ने का मन नहीं होता तो करें ये काम

fitness_landscape_1458285685रात में सोने से पहले ये सोचते हैं कि 6 बजे हर हाल में उठ जाउंगा लेकिन सोचते ही रह गए और बज गए 7। क्या ये आपके साथ रोज होता है? शायद ये रोज की कहानी हो गई है देर से उठना क्योंकि सुबह बिस्तर छोड़ने का मन ही नहीं होता। जागने के बाद देर तक आराम फरमाते रहते हैं और बाद में पछताते हैं। अगर इससे निपटना है तो ये तरीके आजमाएं और रोजाना पछताने से बच जाएंगे।

कुछ लोग जिन्हें 7 बजे उठना होता है तो वो 6 या 6:30 का अलार्म लगा देते हैं और सोचते हैं कि अलार्म ऑफ करते-करते तो सही समय पर उठ ही जाएंगे। लेकिन ये गलत तरीका है। आपको जिस समय उठना है उस समय का ही अलार्म लगाएं और उस समय ही उठें।

अब सवाल ये होता है कि सही समय पर अलार्म तो लगा लें लेकिन उठेंगे कैसे? तो हम आपको बताते हैं कुछ तरीके जिससे ये सब आसान हो जाएगा। जिस समय उठना है उस समय का अलार्म लगाएं और उसे बेडरुम के दूसरे छोर पर रखें जिससे उसे बंद करने के लिए बिस्तर से उठना पड़े। इससे दोबारा बिस्तर पर लुढकने से बच जाएंगे। 

अगर अलार्म पास ही रख कर सोना चाहते हैं तो एक तरीका और है कि लेटे-लेटे अलार्म बंद करने के बजाए बिस्तर पर बैठ जाएं और तब उसे बंद करें।

रात को सोने से पहले खिड़कियों के पर्दे हटा दें जिससे सुबह होते ही कमरे में रोशनी आएगी तो इससे आसानी से उठ सकेंगे।

नेशनल स्लीप सर्वे के अनुसार सुबह बिस्तर छोड़ने में परेशानी होने का एक कारण है कि कई लोग वीकएंड पर वीकडेज की अपेक्षा थोड़ा देर से सोते हैं। वास्तव में हमारा शरीर 5 दिन में एक निश्चित समय पर सोने के लिए तैयार हो जाता है जोकि छुट्टी वाले दिन बदलने से बिगड़ जाता है। तो कोशिश करें कि वीकएंड पर भी उसी समय पर सोए जिससे रोजाना सोते हैं।

रोजाना जो लोग थोड़ी देर भी कसरत के लिए निकालते हैं उनको सुबह के समय कम नींद कम आती है और समय पर उठ जातें हैं।

दिन में खूब सारी पानी पिएं। उठने के एक घंटे के अंदर ही पानी पिएं। इससे सुबह जल्दी उठने में फायदा होगा।

=>
LIVE TV