सरकार ने दिल्ली को बताया स्टार्ट – अप का केंद्र , बेंगलुरु को लगा बड़ा झटका…

दिल्ली से कई बड़ी खबरे सामने आती रहती हैं. लेकिन इस ऐसी बड़ी खबर सामने आई हैं की बेंगलुरु को बड़ा झटका लगा हैं. वहीं देखा जाये तो सरकार ने स्टार्ट – अप का केंद्र अब दिल्ली – एनसीआर को घोषित कर चुकी हैं.

बतादें की इस इलाके में सबसे ज्यादा यूनिकॉर्न हैं, सबसे ज्यादा बाजार मूल्यांकन है और भारत में सबसे ज्यादा वैल्यूएबल लिस्टेड इंटरनेट कंपनियों में से करीब 75 फीसदी इसी इलाके में हैं. एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है.

बैडमिंटन खिलाड़ी एचएस प्रणॉय को हुआ डेंगू, बाहर हुए चीन और कोरिया ओपन से…

जहां यूनिकॉर्न स्टार्ट-अप ऐसे होते हैं जिनका वैल्यूएशन 1 अरब डॉलर से ज्यादा हो जाता है. दिल्ली-एनसीआर के एनजीओ TiE और बेंगलुरु स्थित रिसर्च फर्म जिन्नोव की मंगलवार को जारी एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है.

खबरों के मुताबिक  एनसीआर में अब 7,039 सक्रिय स्टार्ट-अप (पिछले 10 साल में गठित कंपनियां) हैं, जबकि बेंगलुरु में ऐसे स्टार्ट-अप 5,234 हैं. तीसरे स्थान पर ऐसे 3,829 स्टार्ट-अप के साथ मुंबई का नंबर है.

हैदराबाद, पुणे और चेन्नई में 2000 से कम एक्ट‍िव स्टार्ट-अप हैं. एनसीआर की बात करें तो सबसे ज्यादा 4,491 स्टार्ट-अप दिल्ली में हैं और इसके बाद 1,544 गुड़गांव तथा 1004 स्टार्ट-अप नोएडा में हैं.

दरअसल एनसीआर में कंज्यूमर प्रोडक्ट एवं सेवा, एंटरप्राइज प्रोडक्ट और ई-कॉमर्स के उभरते हुए स्टार्ट-अप हैं. सबसे ज्यादा यूनिकॉर्न की संख्या भी दिल्ली में है. दिल्ली में 10 यूनिकॉर्न हैं, जबकि बेंगलुरु में 9 ही हैं. दिल्ली के 10 यूनिकॉर्न में ओयो रूम्स, पेटीएम, डेल्हीवरी, हाइक, रिविजो, जोमैटो, पॉलिसी बाजार, स्नैपडील, रीन्यू पावर और पेटीएम मॉल हैं.

=>
LIVE TV