राजनाथ सिंह-“सेना पर लग रहे गलत आरोप”

rajnath-singh_57075563265e4एजेंसी/नई दिल्ली : केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने हंदवाड़ा के छेड़छाड़ मामले में कहा है कि सेना पर गलत तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं। इस तरह के आरोप बेहद गलत हैं। इस मामले में केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने सभी से शांति बनाए रखने की अपील की है। केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने ट्विट करते हुए कहा कि जम्मू – कश्मीर की स्थिति को लेकर राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती से भी उन्होंने इस मसले में चर्चा की।

प्रदेश की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती से भी उन्होंने चर्चा की इस दौरान उन्होंने केंद सरकार की ओर से राज्य सरकार को हर तरह की सहायता करने की बात कही। उल्लेखनीय  है कि जम्मू – कश्मीर के हंदवाड़ा में एक स्कूली विद्यार्थी के साथ छेड़छाड़ होने के बाद राज्य में अशांति का वातावरण था। 

इस मामले में लड़की के परिजन ने कहा था कि लड़की पर दबाव बनाकर इस तरह का बयान लिया गया था। इस लड़की ने छेड़छाड़ के लिए सुरक्षाबलों को जवाबदार नहीं बताया। मगर बात यही सामने आई कि सेना के जवान ने छेड़छाड़ की थी। बाद में इस लड़की द्वारा इस बात से इन्कार करने का वीडियो भी सामने आया था। जिसमें यह लड़की सेना के जवानों द्वारा छेड़छाड़ न करने की बात कह रही थी।

सेना ने भी कहा था कि एक सेना के जवान ने नहीं बल्कि एक स्थानीय व्यक्ति ने छेड़छाड़ की थी। इस मामले में पीडि़ता ने कहा  था कि उनकी बेटी केवल 16 वर्ष की है। बयान देने के समय वह अकेली थी ऐेसे में पुलिस ने उस पर दबाव बनाया था। उल्लेखनीय है कि स्कूल से छुट्टी होने के बाद जब यह छात्रा घर लौट रही थी इसी दौरान वह बाथरूम गई तो सेना के एक जवान ने उसका पीछा किया था।

जब इस छात्रा ने बाथरूम में सेना के जवान को देखा तो उसने शोर मचाना प्रारंभ किया। ऐसे में आसपास के दुकानदार वहां पर एकत्रित हो गए। ऐसे में वहां पुलिसकर्मी भी पहुंच गए। दूसरी ओर सेना का जवान भाग निकला। दूसरी ओर उसकी मां ने यह भी कहा कि छात्रा को परिवार को बताए बिना पुलिस थाने लाया गया।

इस मामले में जम्मू – कश्मीर उच्च न्यायालय ने भी सुनवाई करते हुए पुलिस से कहा कि आखिर किस वजह से और किस कानून के अंतर्गत एक नाबालिग लड़की को हिरासत में लिया गया। दरअसल छेड़छाड़ की बात सामने आने के बाद हिंसा भड़क गई थी। हालांकि यह स्पष्ट नहीं हो पाया था कि छेड़छाड़ सही में हुई थी या फिर यह अफवाह थी।

हिंसा भड़कने के साथ ही क्षेत्र में आगजनी भी हो गई और कई स्थानों पर विरोध  प्रदर्शन भी होने लगे। भीड़ को नियंत्रित करने में सुरक्षाबलों ने फायरिंग कर दी। ऐसे में 11 वीं के एक विद्यार्थी की मौत हो गई। दूसरी ओर 3 लोग घायल हो गए। केंद्रीय गृहमंत्रालय ने इस मामले में संज्ञान लिया। 

=>
LIVE TV